चौकसी को वापस में कितने करोड़ खर्च कर रही है सरकार?

पंजाब नेशनल बैंक स्कैम के आरोपी मेहुल चोकसी फिलहाल कैरेब‍ियाई देश डोमिनिका एक अस्पताल में पुलिस की निगरानी में है. इस  बीच खबर ये है कि उसे भारत लाया जा सकता है. भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी को भारत लाने के लिए देश की 8 सदस्यीय टीम डोमिनिका में डेरा डाले हुए है. ईडी, सीबीआई समेत 2 सीआरपीएफ के कमांडो भी इस टीम में मौजूद हैं. मेहुल चोकसी से जुड़े तमाम कागजात लेकर टीम डोमिनिका के लिए गई है. टीम के डोमिनिका पहुंचने के बाद एंटीगा के पीएम ने भी इस बात की पुष्टि की थी कि भारतीय अधिकारी एक प्राइवेट जेट से डोमिनिका पहुंचे. भारतीय टीम की कोशिश है कि डोमिनिका से जल्द मेहुल चोकसी को प्रत्यर्पित कराया जा सके.

 भारत से अधिकारीयों की एक टीम विशेष विमान से डोमिनिका गयी है. जिस विमान को इस मिशन के लिए हायर किया गया है जानते हैं उसका खर्चा कितना है?

इस निजी विमान के घंटेभर हवा में रहने की लागत लगभग 8.46 लाख है. बॉम्बार्डिअर ग्लोबल 5000 (Bombardier Global 5000) नाम से ये जेट किसी आलीशन निजी जेट से कम नहीं. मनीकंट्रोल में आई एक खबर में निजी चार्टर कंपनियों के हवाले से बताया गया कि अगर ये विमान घंटाभर भी हवा में रहे तो इसकी लागत 8.46 लाख रुपए आती है. भारत से एंटीगा की दूरी लगभग 13,269 किलोमीटर है, जिसे तय करने में 16 से 17 घंटे लगते हैं. ऐसे में जेट का केवल एक तरफ जाने का खर्च लगभग 1.43 करोड़ होगा और एंटीगा जाने और आने का खर्च तकरीबन 2.86 करोड़ हो सकता है. , विमान को किराए पर लेने वाली एजेंसी को प्रति देश लगभग 5,11,000 रुपए का भुगतान करना होगा, जिसे विमान उड़ान शुल्क कहते हैं. जिस जिस देश स होकर विमान गुजरेगा वहां घंटे के हिसाब से भी शुल्क जमा करना होता है. यानी जैसे-जैसे विमान के घंटे बढ़ेंगे, उसकी लागत उतनी बढ़ती जाएगी. साथ ही अगर जेट कहीं रुके भी तो भी उस देश की एयर अथॉरिटी को शुल्क दे ना होगा. इस तरह से साफ है कि बैंक घोटाले के आरोपी चोकसी को लाना काफी खर्चीला साबित होने वाला है.

वैसे जिस विमान को मेहुल चौकसी को वापस लाने के लिए हायर किया गया है वो कतर एग्जीक्यूटिव, कतर एयरवेज की यूनिट है, जो साल 2009 में ही बनी. ये मिडिल ईस्ट समेत पूरी दुनिया में खुद को जेट एयरक्राफ्ट मुहैया कराने वाली सबसे बड़ी कंपनियों में से एक होने का दावा करती है.

वैसे भारतीय अधिकारियों को तेज तर्रार टीम डोमिनिका पहुँच चुकी है. खबर तो ये भी है कि एंटिगा से डोमिनिका तक मेहुल चौकसी ऐसे ही नही पहुँच बल्कि वो एक सीक्रेट मिशन था. कहा तो ये भी जा रहा है कि हनी ट्रैप का शिकार होकर मेहुल चौकसी एंटिगा से डोमिनिका पहुंचा था.