भारत में 5G ट्रायल को लेकर अभिनेत्री जूही चावला के दावे में कितनी है सच्चाई?

भारत में 5जी ट्रायल को लेकर कई लोग विरोध कर रहे हैं. उनका कहना है कि 5G ट्रायल से  इंसानों पर बुरा असर पड़ेगा. 5जी का विरोध करने वालों में अब बॉलीवुड एक्ट्रेस जूही चावला का नाम भी जुड़ गया है. जूही चावला ने दिल्ली हाई कोर्ट में एक याचिका भी डाली है. जूही कहती हैं कि 5G से नागरिकों, जानवरों, पेड़-पौधों को खतरा है। उनके मुताबिक, अगर 5G नेटवर्क आया तो धरती पर ऐसा कोई शख्‍स, जानवर, च‍िड़‍िया या पौधा नहीं होगा जो साल के 365 दिन रेडिएशन से बच पाए। जूही का दावा है कि तब रेडिएशन आज के मुकाबले 10 से 100 गुना ज्‍यादा होगा।

आगे बढ़ने से पहले आपको बता दे कि 5G मोबाइल नेटवर्क की पांचवी पीढ़ी है। आप और हम 2G, 3G, 4G से तो वाकिफ हैं, 5G उसका अगला चरण ह. जिसको लेकर विवाद हो चुके हैं.. तो क्या 5g का कोई दुष्प्रभाव भी है जो इंसानों और पर्यावरण पर पड़ने वाला है.
दरअसल भारत के कई नामी वैज्ञानिकों ने 5G को लेकर जल्‍दबाजी न करने को कहा है। दो साल पहले, कई वैज्ञानिकों ने केंद्र सरकार को पत्र लिखा था जिसमें उन्‍होंने कहा था कि 5G से इंसानी सेहत और पर्यावरण को नुकसान हो सकता है. वैज्ञानिकों का कहना था कि 5G से पहले विस्‍तार से रिसर्च की जरूरत है क्‍योंकि रेडिएशन का असर अक्‍सर देर से दिखता है। उन्‍होंने कहा था कि अगर इसे इंसानों के लिए सुरक्षित मान लिया भी जाए तो भी पेड़-पौधों पर इसके असर पर ढेर सारी रिसर्च होनी चाहिए।

विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के अनुसार 5G इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर से जो एक्‍सपोजर होता है, वह 3.5 GHz के बराबर होता है। यह अभी के मोबाइल बेस स्‍टेशन के बराबर ही है। WHO की वेबसाइट के अनुसार, अभी चूंकि यह तकनीक विकसित हो रही है, ऐसे में और रिसर्च होनी चाहिए।
पर्यावरण पर 5g का क्या असर पड़ने वाला है? यूनिवर्सिटी ऑफ वॉशिंगटन पर छपे एक लेख के अनुसार, 5G से निश्चित तौर पर दुनियाभर में ऊर्जा का इस्‍तेमाल बढ़ेग और जलवायु परिवर्तन के लिए उर्जा का बढ़ता इस्‍तेमाल भी एक प्रमुख वजह है। हालांकि यूनिवर्सिटी ऑफ ज्‍यूरिख की एक स्‍टडी कहती है कि 2030 तक 5G नेटवर्क्‍स के जरिए ग्रीनहाउस गैसों का उत्‍सर्जन 4G नेटवर्क्‍स से कम हो जाएगा।
मतलब अभी तक मिली जुली राय सामने आ रही है कि 5G से नुकसान होंगे या नही! अब देखते हैं कि जूही चावला द्वारा लगाई गयी याचिका पर कब सुनवा होती है और कोर्ट से क्या कुछ और बातें निकल कर सामने आती हैं.