कोरोना की वजह से मृत लोगों के शोध से खुलासा, मौत की पांच वजहें!

दुनिया भर के करीब 15 लाख लोग कोरोना वायरस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं, करीब एक लाख चालीस हजार लोगों की मौत हो चुकी है. वहीँ दुनियाभर में 5.74 लाख से ज्यादा लोग ठीक भी हुए है. हालाँकि कोरोना से हुए मौत के पीछे पांच ऐसी वजह हैं जो अधिकतर सामन्य देखने को मिली है. ये वजहें कौन सी है जो अधिकतर लोगों के मौत की वजह बन रही हैं आइये जानते हैं.

अमेरिका के सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के अनुसारकोरोना की वजह से मरने वालों में पुरुषों की दर अधिक रही है और आईसीयू में भर्ती 63 फीसदी लोगोंका वजन अधिक था. इसी के साथ ये भी जानकारी सामने आई है कि वे लोग जिनकी उम्र 55 से अधिक है उनकी मौत अधिक हुई है. उम्र अधिक होने के कारण उनके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है. संक्रमण के कारण फेफड़ों के साथ हृदय और दिमाग पर भी असर पड़ता है जिससे मौत होती है. इसलिए आपको अपने घर के बुजुर्गों का ख़ास ध्यान रखना है, प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में इस बात को कहा था.

कोरोना से पुरुषों की मौत अधिक हुई है. अगर आकड़े को देखें तो इटली में 53 फीसदी पुरूष संक्रमित हुए लेकिन उनमें मौत की दर 68 फीसदी रही. ग्रीस में ये आंकड़ा 55 था लेकिन मौत की दर 72 फीसदी है. वैज्ञानिक ये भी मानते हैं कि पुरूष वायरस को लेकर सतर्क नहीं होते जिसके कारण ऐसा हुआ कि पुरुषों की मौत डर अधिक रही है,

इंपीरियल कॉलेज, लंदन के प्रो. फैन चुंग का कहना हैं कि जिन्हें फेफड़ों, अस्थमा, हृदय, मधुमेह, लिवर और किडनी संबंधी तकलीफ है उन्हें खतरा अधिक है, ऐसे लोगों को सावधान रहने की जरूरत है.

ब्रिटेन के नेशनल हेल्थ सर्विस (एनएचएस) के एक ऑडिट में ये भी पता चला है कि संक्रमित दो तिहाई मरीजों की मौत का कारण उनका मोटापा था. आईसीयू में भर्ती 63 फीसदी मरीज मोटे थे या तो उनका वजन सामान्य से अधिक था. ऐसे मन डॉक्टर मोटे लोग, जिनका वजह सामान्य से अधिक है उन्हें सतर्क रहने की सलाह दी है.

शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) कमजोर होने से वायरस हावी होता है। ये भी कोरोना मरीजों की मौत का बड़ा कारण है. इस तरह की तकलीफ बीमार व्यक्ति के साथ कैंसर का इलाज कराने वाले और धूम्रपान करने वालों में होती है. ऐसे में गंभीर रूप से बीमार लोगों को सावधान रहने और लापरवाही ना बरतने की सलाह ही दी गयी है.

ऑस्ट्रेलिया की मोनाश यूनिवर्सिटी की सारा जोन्स बताती हैं कि किसी भी गंभीर रोग से ग्रसित लोगों से अपनी दवा नहीं छोड़नी है, सामान्य दिनचर्या का सही से पालन किया जाए तो कोरोना से सुरक्षित रहा जा सकता है. अपन डाइट में पोषक तत्वों से भरपूर खानपान को शामिल करना चाहिए। सुबह योग और ध्यान के लिए थोड़ा समय जरूर निकालना चाहिए. इसी के साथ भरपूर मात्रा में नींद लेने की भी सलाह दी जा रही है.
आप भी इन सब बातों का ध्यान रखिये और सुरक्षित रहिये. सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर रखिये. वीडियो अच्छा लगा तो शेयर करना ना भूलें