कैसे ‘Yaas’ नाम के इतने बच्चे एक साथ हो गए पैदा? यहां जानें पूरी खबर…

एक ओर जहां तूफान यास ने तबाही मचाई.. हजारों लोगों को बेघर कर दिया.. करीब एक करोड़ लोग इससे जहां प्रभावित हुए वही दूसरी ओर जब तूफान का रौद्र रूप जारी था तब कई लोगों के घर खुशियां दस्तक दे रही थी. तूफान के कहर की खबरों के बीच एक खबर ऐसी है जिसपर सबकी निगाहें बस खिंची चली आ रही हैं. खबर कुछ ऐसी है ही…

जानिए कैसे अब बच्चा पैदा करने के लिए नहीं होगी मां की जरूरत।now no need of  mother for birth of baby scientist successful in experiment

ओडिशा में इस महासंकट के बीच कई परिवारों के घर किलकारियां गुंजती नजर आई. जब ओडिशा साइक्लोन यास का मुकाबला कर रहा था, उस दौरान राज्य में करीब 750 बच्चों का जन्म हुआ. लेकिन इससें भी दिलचस्प बात ये है कि कुछ परिवारों ने अपने नवजात बच्चों का नाम चक्रवाती तूफान के नाम पर यासरख दिया और ये सिलसिला अभी भी जारी है.

मंगलवार की रात के वक्त जब बंगाल की खाड़ी से उठा साइक्लोन ओडिशा पर दस्तक दे रहा था, उसी वक्त कई बच्चों ने जन्म लिया. जिसके बाद लोगों ने बच्चों का नाम यास रखना शुरु कर दिया.कई परिवार अपने बच्चों का नाम यास रजिस्टर करवा रहे हैं. बेटा हो या बेटी, लोग नाम रख रहे हैं Yaas. इस खबर ने सबकों अपनी ओर खींच लिया है.

हरियाणा में आज और कल दिखेगा 'ताउते' तूफान का असर, इन जिलों में भारी बारिश  के आसार-The impact of Toute storm will be seen in Haryana today and  tomorrow, the possibility of

बता दें कि इस बार आए साइक्लोन यास का नाम ओमान की तरफ से रखा गया था, यास एक पर्शियन यानी फारसी शब्द है. अंग्रेजी में इसका अर्थ जैस्मीन होता हैं.

राज्य सरकार के महिला एवं बाल कल्याण विभाग के मुताबिक, यास चक्रवात के बीच करीब 6,500 गर्भवती महिलाओं को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट किया गया था. जिन महिलाओं की डिलीवरी तुरंत होने वाली थी, उन्हें जल्द से जल्द डिलीवरी सेंटर ले जाया गया था.