भारत में 48 साल बाद हो रहा है अंतरराष्ट्रीय डेयरी संघ विश्व डेयरी सम्मेलन २०२२ का आयोजन, PM मोदी करेंगे आज उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) आज यानी 12 सितंबर को ग्रेटर नोएडा में रहेंग।  वह इंडिया एक्सपो सेंटर (India Expo Centre) में चार दिन तक चलने वाले IDF World Dairy Summit-2022 का उद्घाटन करेंगे। यह कार्यक्रम ग्रेटर नोएडा स्थित इंडिया एक्सपो सेंटर एंड मार्ट में सुबह 10:30 बजे से शुरू होगा. चार दिन तक चलने वाला IDF World Dairy Summit-२०२२ १२ सितम्बर से 15 सितंबर तक चलेगा. इसमें दुनिया के और भारतीय डेयरी से जुड़े लोग हिस्सा लेंगे।  पीएम के अलावा गृहमंत्री अमित शाह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अलावा 50 देशों के मेहमान व प्रतिनिधि शिरकत करेंगे।

48  साल पहले हुआ था आयोजन

 इस तरह का आयोजन भारत में काफी लंबे समय बाद हो रहा है।  इससे पहले इस तरह का पिछला सम्मेलन 1974 में आयोजित किया गया था। काफी लम्बे अंतराल के बाद यह आयोजन एक बार फिर से २०२२ में होने जा रहा है। इस कार्यक्रम में 1100 डेलीगेट्स शामिल होंगे, जिसमें विदेशी भी होंगे। समिट का विषय ‘पोषण और आजीविका के लिए डेयरी’ रखा गया है। इस कार्यक्रम की सुरक्षा के खास इंतज़ाम किये गए है। इस आयोजन के लिए चार स्तरीय सुरक्षा राखी गयी है। पहले स्तर पर एसपीजी के जवानों ने मोर्चा संभाल लिया है. दूसरे स्तर पर एटीएस (एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड) के कमांडो तैनात रहेंगे. तीसरे स्तर पर सेंट्रल पैरा मिलिट्री फोर्स के जवान होंगे. चौथे स्तर पर पुलिस के जवान सुरक्षा व्यवस्था संभालेंगे।  निजी ड्रोन नहीं उड़ाए जा सकते और साथ ही सीआरपीसी के तहत धारा 144 लागू है। इस समिति की सुरक्षा के लिए 10 आईपीएस, 15 अडिशनल एसीपी, 19 सीओ व 3 हजार के करीब पुलिसकर्मी तैनात रहेंगे।

भारत को मिलेगा फायदा

भारत की वैश्विक दूध में 23 प्रतिशत की हिस्सेदारी है. भारत में सालाना करीब 210 मिलियन टन दूध का उत्पादन होता है और इससे 8 करोड़ डेयरी किसान सशक्त और आत्मनिर्भर हो रहे हैं। भारतीय डेयरी उद्योग इस मायने में अद्वितीय है कि यह एक सहकारी मॉडल पर आधारित है. यानी यह छोटे और सीमांत डेयरी किसानों, विशेषकर महिलाओं को सशक्त बनाता है. प्रधानमंत्री के विजन से प्रेरित होकर, सरकार ने डेयरी क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाए हैं. इसके परिणामस्वरूप पिछले आठ वर्षों में दूध उत्पादन में 44 प्रतिशत से अधिक वृद्धि हुई है।  एक्स्पो सेंटर में कुल 11 हॉल हैं, जिसमें डेयरी उद्योग से जुड़े कई विश्वस्तरीय प्रदर्शनी भी लगाई गई हैं। अलग-अलग हॉल के नाम भी गायों की विभिन्न प्रजातियों के नाम पर रखे गए हैं। इनमें गीर, साहिवाल और मुर्रा आदि प्रमुख हैं।