अगर प्रदूषण से हालात और ज्यादा बिगड़े, तो बंद हो जाएंगे NCR के थर्मल पावर प्लांट !

दिल्लीएनसीआर में प्रदूषण का स्तर दिन पर दिन बढ़ रहा है. ऐसे में पर्यावरण संरक्षण एवं प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण के अध्यक्ष भूरे लाल ने कहा है कि अगर इस बार प्रदूषण से हालात ज्यादा खराब होते है तो NCR के थर्मल पावर प्लांट भी बंद किए जा सकते हैं. भूरे लाल ने सोमवार को हरियाणा और उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिवों को इस विषय के बारे में पत्र भी लिखा है.भूरे लाल ने पत्र में हरियाणा के मुख्य सचिव विजयवर्धन और उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी से पूछा है कि अगर उनके सभी थर्मल पावर प्लांट बंद करने की स्थिति बन जाए तो इसके लिए सरकार द्वारा क्या तैयारी की गई है?

पत्र में भूरेलाल ने कहा है कि पूर्व निर्देश के मुताबिक थर्मल पावर प्लांटों को 2015 के प्रदूषण मानकों का पालन करना होगा. पिछले साल भी इस विषय पर चर्चा हुई थी, जिसमें ईपीसीए को आश्वासन दिया गया था कि सभी थर्मल प्लांट प्रदूषण मापदंड का पालन करेंगे. दिल्लीएनसीआर में लगातार वायु प्रदूषण बढ़ रहा है, इसके और ज्यादा बढ़ने की आशंका है. अगर ऐसा हुआ तो पावर प्लांटों को बंद करने की स्थिति सकती है.

EPCA का कहना है कि सर्दी में तापमान गिरने से प्रदूषण बढे़गा. इसलिए दोनों राज्य सरकारों को थर्मल पावर प्लांटों को लेकर स्थिति स्पष्ट करनी होगी.

यहाँ आपको बता दे कि इससे पहले दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन ने भी केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह को पत्र लिखकर एनसीआर में चल रहे सभी 11 थर्मल पावर प्लांट बंद करने की गुजारिश की है.जैन का कहना है कि ये प्लांट दिल्ली की वायु को खराब करने में बड़ी भूमिका निभाते हैं. सर्दियों में इन्हें बंद किया जाना चाहिए.ऐसे में दिल्लीएनसीआर के बढ़ते प्रदूषण के बीच थर्मल पावर प्लांट की बंदी भी मुद्दा बन गया है.