भारत की पहली स्वदेशी कोरोना वैक्सीन को मिली ऑस्ट्रेलिया में मंजूरी

कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ने के लिए जो भारत ने पहली स्वदेशी कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन तैयार की थी. अब उस कोवैक्सीन को ऑस्ट्रेलिया की थैरेप्यूटिक गुड्स एडमिनिस्ट्रेशन ने ‘मान्यता’ देने का फैसला किया है. जिससे काफी सारे पर्यटको को फायदा होगा.

Coronavirus vaccine: How much it costs, who'll get it first and other FAQs | Business Standard News

कैनबरा: भारत की पहली स्वदेशी कोरोना वैक्सीन कोवैक्सिन को ऑस्ट्रेलिया की सरकार ने मंजूरी दे दी है. कोवैक्सीन को मान्यता देने का अहम फैसला थैरेप्यूटिक गुड्स एडमिनिस्ट्रेशन ने किया है. इसके अंतर्गत जिन लोगों को कोवैक्सीन लगाई जाएगी. उन्हें पूरी तरह से टीकाकरण प्राप्त माना जाएगा. इसके आलावा 12 साल या इससे ज्यादा उम्र के सभी यात्रियों को देश में एंट्रीमी सकेगी. वहीं अगर देखा जाये तो ये फैसला भारत के लिहाज से काफी बड़ा फैसला है. भारत में कोविशील्ड के बाद सबसे अधिक इस्तेमाल होनी वाली वैक्सीन यही है. ऑस्ट्रेलिया का ये फैसला उन लोगों के लिए काफी राहतदायक हैं जो की कोवैक्सीन लगवाने के बाद ऑस्ट्रेलिया जाने वाले हैं.

India's first coronavirus vaccine: Here is everything we know about its development - Times of India

मस्कट में कोवैक्सीन को मंजूरी
भारत बायोटेक ने ट्विटर पर लिखा, ‘कोवैक्सीन टीके को अब पृथक-वास की जरूरत के बिना ओमान की यात्रा के लिए स्वीकृत कोविड-19 टीकों की सूची में शामिल किया गया है. ऐसा करने से भारत से ओमान जाने वाले उन सभी यात्रियों को सुविधा होगी जिन्होंने कोवैक्सीन टीका लगवाया है.’ प्रमुख टीका निर्माता कंपनी ने इस संबंध में मस्कट स्थित भारतीय दूतावास द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति का हवाला दिया.

 

STORY BY – UPASANA SINGH