International Tiger Day: पढ़िए ‘पेंच की रानी’ की रोचक कहानी, जिसने इतने बच्चे पैदा किए कि बन गया वर्ल्ड रिकॉर्ड

मध्यप्रदेश को टाइगर स्टेट का दर्जा यूं ही नहीं मिला है….देश में सबसे ज्यादा 526 बाघ मध्यप्रदेश में ही रहते हैं. लेकिन क्या आप जानते है कि मध्य प्रदेश की एक बाघिन ‘सुपर-मॉम’ के नाम से भी जानी जाती है और ये वर्ल्ड फेमस है. जी हां ये बाघिन “क्वीन ऑफ पेंच” यानी ‘पेंच की रानी’ के नाम से भी मशहूर है. पेंच टाइगर रिजर्व में रहने वाली इस बाघिन के नाम एक नहीं दो वर्ल्ड रिकार्ड दर्ज है. पहला-रिकॉर्ड ये है कि इस बाघिन ने 10 साल में 8 बार में 29 शावकों को जन्म दिया है. दूसरा, इस बाघिन ने एक साथ 5 शावकों को जन्म दिया. इस बाघिन ने साल 2008 से लेकर दिसंबर 2018 तक औसतन हर दो साल में शावकों को जन्म देने का रिकॉर्ड बनाया है.

supermom collarwali: 'सुपरमॉम कॉलरवाली' बाघिन ने बनाया रेकॉर्ड, MP-राजस्थान के टाइगर रिजर्व में अच्छे दिनों के संकेत - supermom collarwali tigress in pench tiger reserve sets record | Navbharat Times

वर्ष 2008 से 2018 तक 29 शावकों को दिया जन्म

मई 2008 में 3 शावक

अक्टूबर 2009 में 4 शावक

अक्टूबर 2010 में 5 शावक

मई 2012 में 3 शावक

अक्टूबर 2013 में 3 शावक

अप्रैल 2015 में 4 शावक

नवंबर 2016 में 4 शावक

दिसंबर 2018 में 3 शावक

supermom collarwali: 'सुपरमॉम कॉलरवाली' बाघिन ने बनाया रेकॉर्ड, MP-राजस्थान के टाइगर रिजर्व में अच्छे दिनों के संकेत - supermom collarwali tigress in pench tiger reserve sets record | Navbharat Times

पेंच टाइगर रिजर्व की इस बाघिन ने मई 2008 से दिसंबर 2018 तक 29 शावकों को जन्म दिया. लेकिन इसमें सबसे दिलसस्प बात ये है कि इनमें से 23 शावक जीवित और तंदरुस्त भी हैं. पेंच टाइगर रिजर्व के संचालक विक्रम सिंह के मुताबिक माना जाता है कि 50% शावक ही बच पाते हैं, लेकिन इसके 29 में से 23 शावक सही सलामत हैं. परिहार ने बताया कि न सिर्फ शावकों को जन्म देने, बल्कि बच्चों की परवरिश में भी पेंच की रानी का जवाब नहीं है. इसे ‘मोस्ट फेमस टाइग्रेस इन इंडिया’ के नाम से भी जाना जाता है. शावकों की परवरिश में माहिर और पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र यह बाघिन इसी वजह से वाइल्ड लाइफ के लिए धरोहर मानी जाती है. यही वजह है कि पेंच आने वाला हर पर्यटक एक बार इस बाघिन और इसके शावकों को जरूर देखना चाहता है.

ये भी पढ़ें-जज की मौत के पीछे साजिश या दुर्घटना? सीसीटीवी वीडियो से मिला सुराग

वन विभाग के मुताबिक इस बाघिन ने जंगल की दुनिया के संतुलन को बनाए रखने में जो योगदान दिया है, शायद वह अब तक किसी भी टाइगर रिजर्व में देखने को नहीं मिला है. पेंच में बाघों का कुनबा बढ़ाने में ‘रानी’ का विशेष योगदान माना जाता है.

ये भी पढ़ें-जब टोक्यो ओलंपिक में दिखा तिलचट्टा , लूट ली महफ़िल

तो आपको 10 सालों में 29 शावकों को जन्म देने वाली सुपर मॉम यानी ‘पेंच की रानी’ की कहानी कैसी लगी…हमें कमेंट करके जरूर बताएं…

ये भी पढ़ें-