क्या कोरोना वायरस मानव इतिहास की सबसे खतरनाक महामारी है? पढ़िए पूरी रिपोर्ट

क्या साल 2020 मानव इतिहास का सबसे बुरा दौर है?

ऐसा आपने कहते हुए कई लोगों को सुना होगा कि साल 2020 ने सबकुछ तबाह कर दिया… साल 2020 सबसे खराब साल रहा है लेकिन क्या यही सच है…

सन 1347 से लेकर 1351 में प्लेग नाम की बीमारी ने ऐसा कहर ढाया था कि इसे लोगों ने काली मौत या ब्लैक डेथ का नाम दिया… इस महामारी की वजह से पूरी दुनिया में दो करोड़ लोगों की मौत हो गयी.  इस समय को मानव इतिहास का सबसे खतरनाक वक्त माना जाता है. इस पहले 542 से 546 के बीच में भी इसी तरह का प्लेग फैला था जिससे यह धारणा बनी की यह प्लेग हर सौ साल बाद महामारी लेकर लौटता है. कहा जाता है कि इसी महामारी के संक्रमण को रोकने के लिए क्वारंताइन का प्रयोग पहली बार किया गया था.

चेचक की महामारी ने दुनिया में सबसे खतरनाक मानी जाती है और इसने पूरी दुनिया में खूब तबाही मचाई है. वैसे तो चेचक की बीमारी मैक्सिको में सबसे पहले आई लेकिन कहा जाता है कि ये महामारी स्पेनी सेना से आई.  कहा जाता है कि सौ साल तक चेचक का असर मैक्सिको पर रहा था और उसकी आबादी एक करोड़ 10 लाख से केवल 10 लाख होकर रह गई थी… स्पेनिश फ्लू ने अमेरिका के एक आर्मी कैम्प से शुरू होकर पूरी दुनिया में तबाही मचा दी थी 1918 से 1920 में के बीच फैली इस महामारी ने स्पेन की एक तिहाई जनसंख्या का खात्मा कर दी थी. दुनिया के 5 से 10 करोड़ लोग मारे गए थे. 1957 में यह एशियन फ्लू के नाम से फिर से फैलने लगी लेकिन तब इसका टीका निकलने से बहुत सारे लोगों की जान बच सकी, लेकिन उससे पहले 20 लाख लोग मारे जा चुके थे.

कोरोना वायरस या कोविड 19 भी सबसे खतरनाक महामारी में एक है.. इस बीमारी ने अब तक पूरी दुनिया के छह करोड़ लोग संक्रमित हो चुके हैं जिसमें से 14 लाख लोग मारे जा चुके हैं.