महाराष्ट्र: अचानक लोनार झील का पानी हुआ लाल,गुथी सुलझाने में लगे वैज्ञानिक

विश्वभर में कुछ ऐसी भी घटनाएं होती हैं जो आम इंसानों के साथ-साथ वैज्ञानिकों को भी हैरत में डाल देती हैं .ऐसी ही एक चौंकाने वाली घटना महाराष्ट्र के बुलढाणा जिले से सामने आया है..

दरअसल महाराष्ट्र के बुलढाणा जिले में स्थित मशहूर लोनार झील के पानी का रंग अचानक रातोंरात बदलकर लाल हो गया है..अचानक पानी का रंग क्यों और कैसे बदला, इसके पीछे क्या वजह है? इसे जानने के लिए विशेषज्ञों की टीम जुट गई है.

हालांकि कुछ प्रकृतिविद और वैज्ञानिकों ने झील के शुरुआती दृश्य को देखते हुए बताया है कि पानी के रंग लाल होने के पीछे क्या वजह हो सकती है…

1.कुछ विशेषज्ञ इसकी वजह लवणता और जलाशय में शैवाल की मौजूदगी को मान रहे हैं.
2.वहीं, इस झील पर बहुत दिनों से काम करने वाले प्रोफेसर डॉ सुरेश मापरी बताते हैं कि ये सब बैक्टीरिया और विशेष प्रकार के फंगस की वजह से हुआ है.
3. कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि ये पहली दफा नहीं है जब झील के पानी का रंग बदल गया हो लेकिन इस बार यह एकदम साफ नजर आ रहा है.
4.औरंगाबाद के डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर मराठवाड़ा विश्वविद्यालय में भूगोल विभाग के प्रमुख डॉ. मदन सूर्यवंशी के मुताबिक,जिस बड़े पैमाने पर पानी का रंग बदला है उसे देखते हुए कहा जा सकता है कि इसमें मानवीय दखल का मामला नहीं है.

फिलहाल इसके पानी के रंग लाल होने के पीछे क्या कारण है इसकी पूरी जांच के लिए वैज्ञानिकों की टीम काम कर रही हैं..

आपको यहां ये भी बता दें कि इस झील का निर्माण एक उल्का पिंड गिरने की वजह से हुआ था..इसलिए इसे भारत की एक मात्र उल्कीय झील भी कहा जाता है. माना जाता है कि इस झील का निर्माण करीब 50,000 साल पहले धरती से उल्कापिंड के टकराने से हुआ था. दुनियाभर के वैज्ञानिकों और प्रकृतिविदों को इस झील में बहुत दिलचस्पी रहती है.