मेयर ने कहा ” मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का बयान दुर्भाग्यपूर्ण “

रांची: रांची नगर निगम की मेयर आशा लकड़ा ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के बयान को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि कोरोना के कारण राज्य में दुष्कर्म से संबंधित मामलों में वृद्धि हुई है। राज्य की महिलाओं के प्रति उनकी सोच अच्छी नहीं है। लकड़ा ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा, मां-बेटी की इज्जत व सम्मान करना उनका नैतिक कर्तव्य है।  वहशी दरिंदे खुलेआम मां-बहनों की इज्ज़त को तार-तार कर रहे हैं। फिर भी राज्य सरकार अपनी सुरक्षा व्यवस्था की खामियों को स्वीकार करने में शर्म महसूस कर रहा है। राज्य के डीजीपी भी यह बयान दे रहे हैं कि सुनसान स्थलों पर महिलाएं न जाएं। सुनसान स्थलों पर किसी महिला या युवती के साथ कोई अप्रिय घटना घटित होगी तो उसके लिए पुलिस जिम्मेदार नहीं होगी।
देश के प्रधानमंत्री बेटियों को आगे बढ़ने की राह दिखा रहे हैं। बेटियों का हौसला बढ़ा रहे हैं। लेकिन राज्य की निरंकुश शासन प्रणाली झारखंड की बेटियों को मानसिक तौर पर कमजोर कर रही है। हेमंत सरकार के कार्यकाल में महिलाओं और युवतियों के उत्पीड़न व दुष्कर्म से संबंधित 1200 से अधिक मामले दर्ज हो चुके हैं। फिर भी राज्य सरकार कुछ मामलों में ही अपराधियों की गिरफ्तारी कर वाहवाही बटोर ने कोशिश कर  रही है। उन्होंने कहा कि उन्हें लगता है कि मुख्यमंत्री अपनी जिम्मेदारी से मुंह मोड़ रहे हैं।  मुख्यमंत्री अपने राज्य की मां, बहन व बेटियों की इज्जत करना सीखिए। मां, बहन, बहू और बेटियां इस राज्य की मात्र-सम्मान हैं। इनकी इज्जत-आबरू की रक्षा कीजिए।