पिघलती बर्फ इंसानों के लिए ला सकती है मुसीबत, नष्ट हो रहीं एम्परर पेंग्विन की बस्तियां

जल वायु परिवर्तन के कारण ग्लोबल वार्मिंग बढ़ रही है। और वैज्ञानिको के अनुसार अगर यही हालात बने रहे तो वो दिन दूर नहीं जब पृथ्वी पर से सब कुछ नष्ट हो जायेगा। जहा जल वायु परिवर्तन के कारण अंटार्टिका की पिघलती बर्फ इंसानो के लिए बडा खतरा ला सकता है वही बर्फ में रहने वाली एम्‍परर पेंगुइन की बस्तियों को नष्‍ट कर रहा है। अर्जेंटीना अंटार्कटिक संस्थान (आईएए) के एक विशेषज्ञ ने चेतावनी दी है की अंटार्कटिका के जमे हुए टुंड्रा और ठंडे समुद्रों में घूमने वाले सम्राट पेंगुइन के जलवायु परिवर्तन के परिणामस्वरूप अगले 30 से 40 वर्षों में विलुप्त होने का गंभीर खतरा है।

तबाह हो जाएगी 70 प्रतिशत एम्‍परर पेंगुइन की बस्तियां

अंटार्कटिका में दुनिया की 99 परसेंट बर्फ है। यहां साल में बारह महीने बर्फ रहती हैं जहा समुद्री मछलियां, पेंग्विन, सील और पोलर बियर जैसे जानवर रह सकते हैं। सम्राट, दुनिया का सबसे बड़ा पेंगुइन  है और यह प्रजाति अंटार्कटिक सर्दियों के दौरान जन्म देता है और अप्रैल से दिसंबर तक नवेली चूजों के घोंसले के लिए ठोस समुद्री बर्फ की आवश्यकता होती है। इस दौरान अगर  समुद्र बाद में जम जाता है या समय से पहले पिघल जाता है है तो सम्राट पेंगुइन अपना प्रजनन चक्र पूरा नहीं कर सकता है। रिपोर्ट के अनुसार नवजात पेंगुइन अगर पाबि तक पहुंच जाते है है तो वे या तो डूब जाते है या फिर ठण्ड से मर जाते है क्योकि उनके पास जलरोधी पंख नहीं होते है।

रिपोर्ट के अनुसार यदि कार्बन उत्सर्जन और जलवायु परिवर्तन की वर्तमान स्थितियों में परिवर्तन नहीं किया गया तो 2050 तक बर्फ में रहने वाली एम्‍परर पेंगुइन के समुद्री बर्फ की बस्तियों के लगभग 70 प्रतिशत बस्तियां तबाह हो सकती है।

2016 में समुद्री बर्फ कम होने के कारण प्रजनन हुआ था प्रभावित

एम्परर पेंगुइन का पूरा जीवन चक्र समुंदरी बर्फ पर निर्भर करता है। सम्राट की अनूठी विशेषताओं में पेंगुइन के बीच सबसे लंबा प्रजनन चक्र शामिल है। एक चूजे के जन्म के बाद, एक माता-पिता उसे अपने पैरों के बीच गर्म रखने के लिए तब तक ले जाते हैं जब तक कि वह अपनी अंतिम पंख विकसित नहीं कर लेता। रिपोर्ट में बताया गया है की 2016 में समुद्री बर्फ के बेहद कम हो जाने के कारण अंटार्कटिका के हैली बे में एक पेंगुइन बस्‍ती की बड़े पैमाने पर प्रजनन असफल रहा। रिपोर्ट में बताया गया है की साल 2016 में नन्हे पेंग्विनों के पानी रोकने वाले वयस्क पंख आने से पहले ही मौसमी समुद्री बर्फ टूट गए और लगभग 10,000 बच्चे पक्षी डूब गए।

दुनिया भर में 650,000 हैं एम्‍परर पेंगुइन

इस समय दुनिया भर में 650,000  एम्परर पेंगुइन है। विशेषज्ञों के अनुसार तेज और खतरनाक धूप पहुंचने से बर्फ पिघलेगी और इनकी बस्तियां तबाह हो जाएगी। अगर हमे इस महाविनाश को रोकना है तो हमे जलवायु परिवर्तन से होने वाले ग्लोबल वार्मिंग को रोकने के लिए अभी से सख्त कदम उठाने होंगे।