तीस साल बाद जालंधर के लोगों को दिखा ये अद्भुत नजारा!

लॉकडाउन के बीच के अच्छी खबर और एक अच्छी तस्वीर देश के सामने आई है. एक तरफ जहाँ पूरा देश लॉकडाउन है.. एक बड़े संकट से जूझ रहा है… बीमारी से लड़ रहा है..वही ये तस्वीर आपके चेहरे पर मुस्कान ला सकती है..

दरअसल भारत समेत दुनिया भर के देशों में लॉकडाउन है. लोग घरों में रह रहे हैं. सड़कों पर गाड़ियां नहीं चल रहीं. फैक्ट्रियां बंद हैं. लॉकडाउन की वजह से भले ही लोगों को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है लेकिन लॉकडाउन का सकारात्मक असर पर्यावरण पर दिखाई दे रहा है और शायद ऐसा पहली बार हुआ है जब देश के अधिकतर शहरों की हवा साफ़ हो गयी है. वहीँ इसी बीच पंजाब के जालंधर से एक ऐसा नजारा देखने को मिला जिसे देखकर सभी लोग आश्चर्यचकित रह गये!

पंजाब के जालंधर में रहने वाले लोगों का कहना है कि हवा इतनी ज्यादा साफ हो गई है कि उन्हें अपने घरों की छत से ही दूर हिमालय की धौलधार पर्वत श्रृंखला दिखाई दे रही है. ये लोग कई साल से यहां रह रहे हैं लेकिन बादल और प्रदूषण की वजह से ऐसा नजारा पहले कभी देखने को नहीं मिला. जिसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर सामने आ रही है.. सोशल मीडिया पर तस्वीरें देखकर जालन्धर के लोग अपने घरों से निकले और इन तस्वीरों को अपने कैमरे में कैद करने लगे! ऐसा कहा जाता है कि कई सालों से धौलधार पर्वत श्रृंखला बादल और प्रदूषण के कारण नहीं दिखाई देती थी. यह शानदार नजारा जालंधर से 200 किलोमीटर दूर स्थित है. इस नजारे को देखने बाद कई लोगों ने ट्विटर के जरिए इस अविश्वसनीय नजारे के बारे में लिखा और तस्वीरें भी शेयर की हैं. उनका दावा है कि इस तरह का नजारा लगभग 30 साल बाद देखने को मिला है.

IFS अधिकारी सुशांत नंदा ने ट्विटर पर एक पोस्ट किया है. जिसमें उनका कहना है कि हिमाचल की यह धौलाधार पर्वत श्रृंखला 30 साल बाद पंजाब के जालंधर से देखी गई है. उनका कहना है कि करीब 30 साल बाद यहां का प्रदूषण स्तर सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया है.  धौलाधार की पर्वत श्रृंखला 200 किमी दूर स्थित है-प्रकृति क्या थी…और हमने इसे क्या कर दिया.

आपको बता दें कि देश के अधिकतर शहरों कि हवा साफ़ हो गयी है.. उन शहरों का भी आसमान साफ़ है जो शहर कभी प्रदुषण के सारे मापदंड तोड़ देते थे.

तो लॉकडाउन के बीच ये रही ना अच्छी खबर….