सहायक पुलिसकर्मियों का आंदोलन, तमाम घेराबंदी के बाद भी रांची पहुंचे

झारखंड में सहायक पुलिस कर्मियों ने आंदोलन का रुख अख्तियार कर लिया है. तमाम घेराबंदी के बाद भी वे हजारों की संख्या में राजधानी रांची पहुंचे हैं. कई जिलों से पैदल ही वे रांची पहुंचे हैं.इनमें महिला पुलिस भी शामिल हैं. सहायक पुलिसकर्मियों की मांग है कि उनकी सेवा स्थायी हो.

इससे पहले शुक्रवार को राज्य के अलग- अलग जिलों से सहायक पुलिसकर्मियों का जत्था बसों से रांची के लिे रवाना हुआ, तो उन्हें पुलिस के अधिकारियों ने आगे बढ़ने से रोका और समझाने-बुझाने की कोशिशें की.

अलबत्ता की जगहों पर जिलों के एसपी को इन पुलिसकर्मियों को समझाने के लिए सड़क पर उतरते देखा गया. इसके बाद वे पैदल ही रांची पहुंच गए. शुक्रवार देर रात से मोरहाबादी मैदान में जुटने लगे थे.

इस बीच रांची पहुंचे सहायक पुलिसकर्मियों के प्रतिनिधिमंडल से रांची के डीआईजी, एसएसपी वार्ता कर रहे हैं. यह बातचीत एसएसपी कार्यालय में हो रही है. पुलिस के आला अधिकारी उनकी मांगों को सरकार तक पहुंचाने का भरोसा दिलाया है.

गौरतलब है कि तीन साल पहले राज्य के 12 नक्सल प्रभावित जिलों में बतौर अनुबंध लगभग  2500 सहायक पुलिसकर्मियों को बहाल किया गया था. उन्हें 10 हजार रुपए का  मानदेय मिलता है.