एक आइडिया और बना दिया कमाल का पेन, स्याही खत्म मिट्टी में फेंको बन जाएगा पौधा

सिंगल यूज पेन में न आने वाले पेन की रिफिल खत्म होने के बाद उसे कूड़े में फेंक दिया जाता है, जो प्लास्टिक कचरे के रूप में एक बड़ा खतरा बन चुका है। लेकिन एक संस्था ने इसका बेहतरीन विकल्प निकल लिया है। अब अगर आपके पेन की रिफिल खत्म हो जाती है। तो उसे फेकने पर प्रदूषण नहीं बल्कि पौधे उग आएंगे।

प्लास्टिक कचरे को स्वर्ण मनी यूथ वेलफेयर नाम की संस्था ने काफी गंभीरता से लिया और इस निजात पाने के लिए उन्होंने इस का विकल्प तैयार कर दिया। इस संस्था से जुड़े हुए युवाओ ने अख़बार के पन्नो से एक ऐसा पेन तैयार किया है जो खुद ब खुद ख़तम हो जायेगा और बहुत ही काम मात्रा में प्लास्टिक का कचरा उत्पन करेगा। और यदि इस पेन की रिफील को निकल कर इस पेन को फेकते है तो यह खुद ब खुद एक पेड़ में तब्दील हो जायेगा। दरअसल इस पेड़ का निचला हिस्सा बीजो से भरा हुआ है।

रूस से मिली प्रेरणा

संस्था के सदस्य रोहित कुमार व प्रदीप कुमार वर्मा ने बताया कि ऐसे पैन बनाने का उनका मकसद कचरे को कम करना है। उन्हें ऐसा पैन बनाने का आइडिया रूस से मिला। साल 2018 में रोहित कुमार वर्ल्ड यूथ फेस्टिवल के तहत रूस गए थे। वहां उन्होंने देखा कि रूस में खुद से नष्ट होने वाले पैन यूज किए जाते हैं।रोहित ने भारत आकर ठीक वैसा ही पैन बनाने की कोशिश की लेकिन वह असफल रहे, हालांकि उन्होंने हार नहीं मानी और आखिरकार कामयाब हुए।

यूट्यूब से सीखा तरीका

प्रदीप ने बताया कि पान बनाने का तरीका उन्होंने यूट्यूब से सीखा। रोहित ने बताया कि किसी पैन में पालक, गोभी और अन्य सब्जियों और फलों-फूलों के बीज भरे गए हैं। इस पैन की कीनत 5 रुपए है। अगर कोई पेन खरीदना चाहता है तो वह संस्था के फेसबुक पेज पर जाकर संपर्क कर सकता है। एक रिपोर्ट के मुताबिक हर साल 160 से 240 करोड़ प्लास्टिक पैन बाजार में आते हैं। जिससे प्लास्टिक कचरा पैदा होता है और इसका 91 फीसदी प्लास्टिक कचरा रिसाइकल नहीं होता।

प्लास्टिक कचरा काम करना है मकसद

हम ज्यादातर एक बार पेन (Pen) यूज करके उसे फिर से इस्तेमाल नहीं करते। कई बार रिफिल लाने के झंझट के चलते हम नया पैन लाना ही बेहतर समझते हैं और पुराने पैन को हम कचरे में फेंक देते। प्लासिटक से बने यह पैन भी पयार्वरण को दूषित ही करते हैं और हम प्रदूषण फैलाने में कुछ हिस्सेदार तो बन ही जाते हैं। वातावरण दूषित न हो इसके लिए स्वर्ण मनी यूथ वेलफेयर नाम की एक संस्था अखबार से पैन तैयार किए हैं। इस पैन की खासियत है कि जब इसकी स्याही खत्म होगी और इन्हें जहां भी फेंकेंगे वहां पौधे उग आएंगे। यानि कि यह पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचेंगे बल्कि हरा-भरा करेंगे।