झारखंड में अब गिफ्ट देकर बढ़ाई जायेगी वैक्सीनेशन की रफ़्तार! लोहारदगा पार्षद ने की शुरुआत

वैक्सीन को लेकर ग्रामीण इलाकों में अभी भी भय का महौल है शायद यही वजह है कि लोग वैक्सीनेशन सेंटर पर नही पहुँच रहे हैं. नेता, पार्षद, मंत्री, विधायक, अधिकारी सब अपील कर रहे हैं लेकिन अपील का कोई ख़ास असर देखने को नही मिला. अब झारखण्ड के लोहरदगा नगर पालिका परिषद के वार्ड नंबर 19 की पार्षद अनिता अग्रवाल और उनके पति पूर्व पार्षद राजीव रंजन ने अनोखी शुरुआत की है.

वैक्सीनेशन सेंटर पर नही पहुंचे लोग, पार्षद ने निकाला अनोखा तरीका 

दरअसल वैक्शीनेशन सेंटर पर लोगों के ना पहुँचने से कई तरह के सवाल खड़े हो रहे थे इसके बाद पार्षद अनिता अग्रवाल ने एक अनूठी पहल शुरू की. ‘वैक्सीन लगवाओ- इनाम पाओ’ स्कीम शुरू होने के बाद वैक्सीनेशन सेंटर पर लोगों की भीड़ बढ़ गयी है. दरअसल पार्षद के अनुसार उन्होंने कई तरीके से लोगों से वैक्सीन लगवाने की अपील की. माइक लगाकर प्रचार करवाया, वैक्सीन के फायदे गिनवाएं, वैक्सीन ना लगने के नुकसान बताये लेकिन वैक्सीनेशन सेंटर की हालत जस के तस बनी रही. इसके बाद उन्होंने प्रचार के साथ साथ ये भी एलान करवाया कि जो लोग वैक्सीन लगवाने आयेंगे उन्हें गिफ्ट दिया जायेगा.

वैक्सीन लगवाओ, गिफ्ट पाओ 

दरअसल पार्षद ने एलान करवाया कि जो लोग वैक्सीन लगवाएंगे उन्हें गिफ्ट में कम्बल दिया जायेगा. इसके बाद वैक्सीनेशन सेंटर पर भीड़ लग गयी. पार्षद की कंबल योजना के प्रभाव से एक दिन में 95 लोगों ने वैक्सीन लगवाई. देर शाम तक वैक्सीनेशन सेंटर पर लोगों की कतार लगी रही. आलम ये हो गया कि अंधेरा होने पर 20-25 लोगों को बगैर वैक्सीन लगाए ही वापस लौटाना पड़ा.

पार्षद अनिता अग्रवाल और उनके पति राजीव रंजन का कहना है कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी वैक्सीनेशन की रफ्तार बहुत धीमी है. अब हम ग्रामीण इलाकों में भी धोती, साड़ी, पैंट और शर्ट लेकर लोगों के बीच जाएंगे. वैक्सीन लगवाने वालों को इसे गिफ्ट में दिया जाएगा. वैसे अगर देखा जाए तो कई जगहों पर लोगों को लुभावने गिफ्ट देकर वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है. सिर्फ भारत में ही नही बल्कि कई बड़े देशों में तो गांजा तक गिफ्ट किया जा है.

आगे भी जारी रहेगी ये मुहिम 

भारत के अन्य हिस्सों में जहाँ लोग वैक्सीन लगवाने के लिए बाहर नही आ रहे हैं क्या वहां पर भी ऐसी योजना की शुरुवात की जा सकती है?
क्या इसके लिए वैक्सीनेशन की रफ्तार तेज हो सकती है? 

इस बारे में आप क्या सोचते हैं कमेन्ट करके जरूर बताइए