Omicron in India: दिल्ली में GRAP लागू, जानें ओमिक्रॉन के ताजा हालात

देश में ओमिक्रॉन संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, देश में ओमिक्रॉन के अब तक 653 मामले सामने आ चुके हैं. ओमिक्रॉन की बढ़ती टेंशन के बीच पाबंदियां भी बढ़नी शुरू हो गईं हैं. इसके खतरे को देखते हुए दिल्ली सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. यहां ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान को लागू कर दिया गया है. यानी दिल्ली में अब येलो अलर्ट जारी हो गया है. जिसके अंदर कई पाबंदियां लागू होंगी.

GRAP (ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान) के तहत जो प्रतिबंध लगते हैं उनका असर स्कूल, मेट्रो, बस सर्विस के साथ-साथ जिम, बैंक्वेट हॉल भी पड़ता है. हालांकि फिलहाल दिल्ली में नाइट कर्फ्यू चल रहा है. केरल और उत्तराखंड सरकारों ने  भी नाइट कर्फ्यू लगाने का ऐलान किया है.

देश में ओमिक्रॉन के सबसे ज्यादा 167  मामले महाराष्ट्र और 165 मामले के साथ दिल्ली दुसरे स्थान पर बना हुआ है. सोमवार को मणिपुर में भी ओमिक्रॉन ने दस्तक दे दी है. इसके बाद से लिहाजा यह वैरिएंट देश के 21 राज्यों को जकड़ चुका है.

इसके अलावा अब तक गुजरात (73), तेलंगाना(55), केरल (57), तमिलनाडु (34), कर्नाटक (38), राजस्थान (46), हरियाणा (12), मध्यप्रदेश (9), ओडिशा (8), आंध्र प्रदेश (6), प. बंगाल (6), जम्मू-कश्मीर (3), उत्तर प्रदेश (2), गोवा (1) चंडीगढ़ (3), लद्दाख(1), उत्तराखंड (4), हिमाचल(1) और मणिपुर (1) में भी ओमिक्रॉन के मामले सामने आए हैं। देश में कोरोना के संक्रमण दर में भी 0.5 फीसदी की गंभीर बढ़ोतरी हुई है.

इस संकट के बीच स्वास्थ्य मंत्रालय ने इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए दो और वैक्सीन्स को मंजूरी दे दी है. स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने इसकी जानकारी ट्वीट करके दी है. ये दो वैक्सीन के नाम हैं- CORBEVAX और  COVOVAX. CORBEVAX और  COVOVAX के अलावा एक एंटी वायरल ड्रग Molnupiravir को भी मंजूरी दी गई है. Molnupiravir एक एंटी वायरल ड्रग है, जिसे अब देश में 13 कंपनियां बनाएंगी. इसका इस्तेमाल इमरजेंसी की स्थिति में व्यस्क कोविड मरीजों के इलाज में किया जाएगा.