पंडा धर्मरक्षिणी सभा ने मंदिर में दिया धरना

देवघर: अरघा सिस्टम लगाने को लेकर पंडा धर्मरक्षिणी  सभा के महामंत्री कार्तिक नाथ ठाकुर सहित अन्य सदस्यों ने मंदिर में ही धरना दे दिया । मंदिर के प्रशासनिक भवन में 50 से ज्यादा पुरोहितों ने मंदिर की इस व्यवस्था के खिलाफ धरना दिया। महामंत्री  ठाकुर ने कहा है कि पहले सरकार के  ईटोकन की व्यवस्था का विरोध किया गया है जिसमें कहा गया था कि सरकार 200 की संख्या में ईटोकन के व्यवस्था से सिर्फ झारखंड के लोगों के लिए दर्शन की व्यवस्था की गयी है लेकिन इससे यात्रियों और पुरोहितों में रोष है।

साथ ही महामंत्री ने कहा कि बिहार और झारखंड वासियों को ईटोकन के नाम पर भेदभाव किया जा रहा है ।इसके अलावा जिला प्रशासन द्वारा अरघा सिस्टम भी लगा दिया गया है इस चीज का भी हम विरोध करते है । महामंत्री ने कहा कि मंदिर खुलने के पक्ष में हम कभी नहीं थे लेकिन सरकार और न्यायालय ने मंदिर को खुलवाया इसके बाद भी यहां व्यवस्था सही नहीं थी और सिर्फ 200 लोगों के लिए व्यवस्था की गई । इसी के तर्ज पर मंदिर के दुकानों और होटल को खोलने की इजाजत मिल गई लेकिन जब श्रद्धालु ही मंदिर में नहीं आ रहे हैं तो होटल और दुकान कैसे चलेंगे। साथ ही भक्तों को भगवान से दूर किया जा रहा है । ऐसे में पुजारी सहित स्थानीय लोगों में भी रोष है इन्हीं कारणों से धर्म रक्षिणी सभा  मंदिर खुलने का विरोध करती है ।