भूख से मर रहे हैं लोग और सरकार करोड़ो खर्च कर गिना रही है उपलब्धियां

झारखंड में भूख और ठंढ़ से मौतें हो रही है और सरकार अपने एक वर्ष के कार्यकाल का गुनगान करोड़ों रुपये खर्च कर जनता के बीच बता रही है। जबकि हकिकत यह है कि राज्य सरकार का कार्यकाल एक वर्ष में ही विफल साबित हो रहा है। राज्य के मूलनिवासियों को ही न तो केन्द्र की और न ही राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ मिल रहा है। ये बातें चंदनकियारी विधायक, पूर्व मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष अमर कुमार बाउरी ने रविवार को बोकारो जिला के पासी टोला में ठंढ़ से हुई मौत की जांच करने के दौरान कही।

उन्होंने कहा कि राज्य की जनता को ही अगर अपनी पहचान साबित कर योजनाओं का लाभ लेना पड़े तो यह राज्य के लिए शर्म की बात है। रघु पासी का परिवार वर्षों से सुरही पंचायत में रह रहे है और अपनी जीविका भीख मांग कर चला रहे थे। यहां उनकी मां, लकवाग्रस्त पत्नी, बेटा, बहन एवं 50 पासी परिवार रहते हैं।

मौके पर विधायक अमर कुमार बाउरी ने रघु पासी की पत्नी, मां, बेटे और बहन से बात की और रघु पासी की मौत की सच्चाई जानी। मौके पर उपस्थित जिला अधिकारियों के माध्यम से सरकार से मांग किया कि अविलंब रघु पासी के परिजनों को आपदा प्रबंधन विभाग की तरफ से चार लाख रुपये का मुआवजा दे। साथ ही उनका राशन कार्ड और प्रधानमंत्री आवास के लिए भी व्यवस्था करे।

उन्होंने जिला प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि ऐसी घटनाओं पर पर्दा न डाले, भोले भाले लोगों को डराये घमकाये नहीं। अन्यथा भाजपा उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होगी।

उन्होंने कहा कि रघु पासी की जब मौत हुई तो उस वक्त पूरी बस्ती में मात्र तीन कंबल ही बांटे गये थे। रघु पासी के पास रहने के लिए भी घर नहीं है। राशन कार्ड नहीं होने के कारण उनके परिवार को आयुष्मान योजना का भी लाभ नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में जिला प्रशासन को चाहिए कि वे इन परिवारों को हर सुविधा उपलब्ध करवाये।

भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रेदेश अध्यक्ष ने कहा कि इन सभी मुद्दे जो दलितों गरीबों से जुड़ी हुई है उनको लेकर 5 जनवरी 2021 को राजभवन के समक्ष एक दिवसीय धरना दिया जायेगा ताकि राज्य की सोयी हुई सरकार को चीर नींद्रा से जगाया जा सके।

मौके पर जिला प्रशासन की तरफ से जिला अपर समाहर्ता विजय गुप्ता, बीडीओ रोशन कुमार, सीओ अंगारनाथ स्वर्णकार मौजूद थे।