Perseid Meteor Shower: अगले एक महीने तक आसमान से होने वाली है सितारों की बारिश, जानें पूरी खबर

अगले एक महीनें में आप जब भी रात में घर से बाहर निकलते हैं तो आसमान की ओर जरूर देखें.क्योंकि इस दौरान आसमान से आपको सितारों की बारिश देखने को मिल सकती है. दरअसल, खबर ये है कि 14 जुलाई से “पर्सिड्स उल्का बौछार”  शुरू हो गई है और ये 24 अगस्त तक जारी रहेगी. अब आप सोच रहे होंगे की ये पर्सिड्स उल्का बौछार  क्या है. बता दें कि पर्सिड्स उल्का बौछार हर साल गर्मी के मौसम में लगभग एक महीने तक होती है. 2021 में पर्सिड्स उल्का बौछार 14 जुलाई से 24 अगस्त तक चलेगा.

Perseid meteor shower set for its best show in nearly 20 years |  Astronomy.com

पर्सिड्स कोई ऐस्टरॉइड नहीं बल्कि Comet यानी धूमकेतु से निकले उल्कापिंड हैं. ये खास उल्कापिंड बेहद चमकीले फायर बॉल जैसे होते हैं. इसलिए इन्हें देखा जाना आसान है. बता दें कि उल्का बौछार तब होती है जब धूमकेतु और क्षुद्रग्रहों के असंख्य छोटे अवशेष पृथ्वी के वायुमंडल में टकराते हैं. धूल, बर्फ और चट्टान से बने ये टुकड़े काफी तेजी से हमारे वायुमंडल में प्रवेश करते हैं. इस कारण इनमें घर्षण से आग लग जाती है. इनकी संख्या बहुत ज्यादा होती है. इसलिए इन्हें उल्का बौछार का नाम दिया गया है. इसलिए, हर साल तारों की ये बरसात एक निश्चित तिथि पर दिखाई देती है. सामान्य रूप से इस नजारे को सबसे अच्छा देखने का समय भोर से पहले होता है. ऐसा इसलिए क्योंकि इस दौरान चंद्रमा केवल 13 फीसदी पूर्ण होगा, इसलिए उल्कापिंडो की रोशनी और ज्यादा अच्छे से दिखाई देनी चाहिए.

Meteor shower occurring through October to peak next week |  ClarksvilleNow.com

इस साल ये तारों की बरसात 14 जुलाई से 24 अगस्त तक होगा. लेकिन 11 और 14 अगस्त के बीच ये बौछार चरम पर होगा. इस दौरान आसमान से उल्कापिंडों के छोटे-छोटे टुकड़े धरती के वायुमंडल में प्रवेश करेंगे. धूल, पत्थर और बर्फ से बने ये टुकड़े वायुमंडल से घर्षण के कारण आग के गोलों में बदल जाएंगे. हालांकि ये टुकड़े इतने छोटे होंगे कि धरती पर गिरने से पहले ही हवा में जलकर खाक हो जाएंगे, लेकिन इनकी तेज रोशनी लोगों का ध्यान अपनी ओर जरूर खींचेंगी लेगी.