दिल्ली में धूल से फिर बढ़ा प्रदुषण! जानिए अपने राज्य के मौसम का हाल

तीन साल बाद मार्च महीने में राजधानी दिल्ली को बेहद खराब स्तर का प्रदूषण झेलना पड़ रहा है  इतना ही नहीं, राजधानी के कुछ हिस्सों में तो प्रदूषण गंभीर स्थिति में भी पहुंच गया है। राहत की बात यह है कि आज बारिश की संभावना की वजह से प्रदूषण कुछ कम होने का नौम्सान जताया गया है. फरवरी और मार्च में बेहद कम बारिश की वजह से अब उत्तर पश्चिमी भारत की धूल राजधानी में 20 दिन पहले ही पहुंचनी शुरू हो गई है. जिसकी वजह से दिल्ली में प्रदुषण बढ़ गया है.

दिल्ली ही नहीं, इस धूल का असर दिल्ली और एनसीआर पर भी पड़ रहा है. भिवाड़ी का एक्यूआई बुधवार को 401, बुलंदशहर का 405, दिल्ली 311, फरीदाबाद 314, गाजियाबाद 364, ग्रेटर नोएडा 369, गुरुग्राम 309, मानेसर 349 और नोएडा में यह 328 रहा। यदि दिल्ली की बात करें तो एनएसआईटी द्वारका में एक्यूआई 402, बवाना में 405, मुंडका में 423 पर रहे। जबकि करीब 14 जगहों पर राजधानी में एक्यूआई खराब स्तर पर रहा।

सीपीसीबी के अनुसार, आमतौर पर फरवरी और मार्च में वेस्टर्न डिस्टरबेंस की वजह से कुछ कुछ समय बाद बारिश होती है। लेकिन इस बार इनकी कमी रही। मौसम शुष्क रहने की वजह से उत्तर पश्चिमी हवाओं के साथ राजधानी में धूल पहुंचने लगी है।आईएमडी के पूर्वानुमान के अनुसार, प्रदूषण बेहद खराब स्थिति में बना हुआ है। नॉर्थ वेस्ट हिस्से से आ रही धूल की वजह से राजधानी में पीएम 10 का स्तर बढ़ रहा है। लेकिन 18 और 19 मार्च को प्रदूषण कुछ कम होगा।

बात अगर बारिश की करें तो स्काईमेट वेदर के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 18 से 19 मार्च के बीच गरज के साथ बारिश होने की संभावना है. वहीं हिमाचल प्रदेश में बुधवार और गुरुवार को मध्य और उच्च पर्वतीय जिलों में बारिश और बर्फबारी के आसार हैं. मध्य प्रदेश, विदर्भ, मराठवाड़ा में 18 मार्च और 19 मार्च को पूर्वी राजस्थान, छत्तीसगढ़, मध्य महाराष्ट्र के कई इलाकों में बादलों की तेज गर्जना या गरज के साथ बौछारें गिरने के आसार हैं. मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने बताया है कि पश्चिमी विक्षोभ के कारण देश के नॉर्थ ईस्‍ट राज्‍यों में तेज बारिश होने के आसार हैं. इन राज्यों में अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, मिजोरम, त्रिपुरा, नगालैंड और मणिपुर है.