Pollution के कारण भारतीयों की जिंदगी 5.2 साल हुई कम, 42% बढ़ा प्रदूषण

भारत की आबादी का एक चौथाई हिस्सा प्रदूषण की मार झेल रहा है. दिन पर दिन भारत में लोगों के जीने के साल कम होते जा रहे हैं. इसकी वजह है प्रदूषण यानी POLLUTION.ये हम नहीं कह रहे है बल्कि ये खुलासा किया है अमेरिका की एक बड़ी यूनिवर्सिटी ने. यूनिवर्सिटी के  रिसर्च के मुताबिक, वायु प्रदूषण के कारण भारत में जीवन प्रत्याशा पांच साल कम हो गई है. यानी भारत में एक व्यक्ति औसत वायु प्रदूषण की वजह से अपने जीवन का पांच साल कम जीने को मजबूर है.

21 Indian cities feature in the list of world's most polluted ...

इस अध्ययन को शिकागो यूनिवर्सिटी के द एनर्जी पॉलिसी इंस्टीट्यूट ने किया है, इस रिसर्च के मुताबिक, ज्यादा वायु प्रदूषण के कारण भारत के लोगों की जीवन प्रत्याशा बहुत तेजी से कम हो रही है. रिपोर्ट में बताया गया है कि पिछले दो दशकों में भारत में पार्टीकुलेट मैटर में 42 प्रतिशत की तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है.आज भारत में 84 प्रतिशत लोग ऐसे क्षेत्रों में रहते हैं, जो भारत के स्वयं के वायु गुणवत्ता मानकों से अधिक प्रदूषित हैं. वहीं पूरी आबादी WHO के प्रदूषण को लेकर बनाई गई गाइडलाइंस से अधिक के स्तर के वायु गुणवत्ता वाले माहौल में जीने को विवश हैं.

ऐसे में, औसत भारतीय अपना जीवन पांच साल कम जीते हुए देखे जा सकते हैं. वायु प्रदूषण की वजह से भारत के लोगों की जीवन प्रत्याशा 5.2 साल घट गई है. जो WHO की गाइडलाइंस में बताई गई 2.3 साल की गाइडलाइंस से दोगुनी है.

इस रिपोर्ट को देखे तो पता चलता है कि भारत की जनसंख्या का एक चौथाई हिस्सा जिस प्रदूषण स्तर में जी रहा है, दुनिया के किसी अन्य देश में ऐसा नहीं देखा गया है. राजधानी दिल्ली के बाद उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर हो गया है. लखनऊ में लोगों की लाइफ एक्सपेक्टेंसी 10.3 साल घट गई है. जबकि, दिल्लीवासियों की 9.4 साल घट गई है. जबकि, WHO के गाइडलाइंस के मुताबिक लाइफ एक्सपेक्टेंसी 6.5 साल होनी चाहिए थी. बांग्लादेश के बाद भारत दुनिया में दूसरा देश है जहां पर लोगों की उम्र तेजी से घट रही है.

 

हालांकि रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि भारत सरकार नेशनल क्लीन एयर प्रोग्राम के माध्यम से प्रदूषण कम करने का लगातार प्रयास कर रही है. इस प्रोग्राम के तहत 2024 तक पार्टिकुलेट प्रदूषण को 20 से 30 फीसदी घटा दिए जाने का मकसद तय किया गया है.