चारा घोटाला में सजा काट रहे लालू यादव तक पहुँच गया कोरोना? जांच पर आज हो सकता है फैसला

चारा घोटाला में जेल की सजा काट रहे पूर्व केन्द्रीय मंत्री, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी सुप्रीमों तक क्या कोरोना वायरस पहुँच गया है? ये साल एक साधू के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद उठ रहा है. माना जा रहा है कि आने वाले कुछ दिनों में उनकी कोरोना जांच की जाएगी. दरअसल, रांची निवासी 75 वर्षीय एक साधु कोरोना संक्रमित पाया गया, जिसका इलाज राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (रिम्स) के डॉ उमेश प्रसाद कर रहे थे. डॉ उमेश प्रसाद चारा घोटाले में सजायाफ्ता लालू प्रसाद का भी इलाज कर रहे हैं। इस कारण उन पर भी कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ गया है.


साधु की सोमवार को कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई, जिसके बाद उसे कोरोना वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया. एक महीने से इलाज करा रहे बुजुर्ग की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर सबकी जान सांसत में आ गई है.  लालू का इलाज कर रहे डॉ उमेश प्रसाद के वार्ड में संक्रमित मिलने से डॉक्टर पर भी कोरोना की चपेट में आने का खतरा है. डॉ उमेश प्रसाद रोजाना लालू की जांच करने पेइंग वार्ड में आते हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि अगर संक्रमण का दायरा बड़ा हुआ तो स्थिति गंभीर हो सकती है. 


वहीं, डॉ प्रसाद ने बताया है कि उन्होंने 22 अप्रैल से वार्ड का चार्ज लिया था. इस दौरान उन्होंने संक्रमित बुजुर्ग का इलाज किया था. डॉक्टर ने कहा कि वह पिछले दो दिनों से राजद सुप्रीमो के पास नहीं गए हैं.

रजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव का इलाज कर रहे डॉक्टर उमेश प्रसाद ने खुद को क्वारंटीन करने की बात कही है, दरअसल पिछले 15 दिन से डॉ उमेश प्रसाद के वार्ड में भर्ती 78 साल के एक शख्स की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने के बाद डॉक्टर ने यह फैसला लिया है, इसके अलावा कुछ अन्य मेडिकल स्टाफ और मरीज को भी क्वारंटीन करने की बात सामने आई है.