इस स्टेशन की तर्ज पर अपग्रेड होगा रांची स्टेशन, निर्माण पर 447 करोड़ रुपए होंगे खर्च

झारखण्ड रांची रेलवे स्टेशन (Ranchi Railway Station) के लिए बड़ी खबर है। रांची रेलवे स्टेशन को भोपाल के हबीबगंज की तर्ज पर एक मॉडल स्टेशन के रूप में डेवलप किया जाएगा। भारतीय रेलवे ने  इस स्टेशन का मॉडल बन चुका है। इसके रि-डेवलपमेंट पर 447 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। सूत्रों के मुताबिक मुताबिक आगामी 12 जुलाई को देवघर  में एयरपोर्ट उद्घाटन के दौरान  प्रधानमंत्री रांची रेलवे स्टेशन के रि-डेवलपमेंट प्रोजेक्ट का ऑनलाइन शिलान्यास रख सकते हैं। यह प्राेजेक्ट ईपीसी यानि इंजीनियरिंग प्रिक्योरमेंट ऑफ कंस्ट्रक्शन के तहत हाेगा। इसे ढाई साल में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।  इस प्रोजेक्ट का नाम मेजर  अपग्रेडेशन ऑफ रांची स्टेशन रखा गया है। इस पूरे प्रोजेक्ट पर दो साल से काम चल रहा था।

3 मंजिला स्टेशन, वेटिंग एरिया में 7 हजार लोग एक बार में ठहरेंगे

स्टेशन के तरफ तीन मंजिला बिल्डिंग हाेगा। लिफ्ट की सुविधा हाेगी। एक बार में सात हजार यात्री कॉनकोर्स(वेटिंग) एरिया में ठहर सकते हैं। दाेनाें बिल्डिंग से एक दूसरे से कनेक्ट रहेगा। एयरपोर्ट की तर्ज पर रेस्टोरेंट और एयर कंडीशन रिटायरिंग रूम की भी सुविधा हाेगी। रांची रेलवे स्टेशन छह प्लेटफाॅर्म का हाेगा। अभी पांच प्लेटफॉर्म हैं। सभी प्लेटफॉर्म पर लिफ्ट और एस्केलेटर की सुविधा रहेगी। स्टेशन के दोनों तरफ काफी बड़ा सर्कुलेटिंग एरिया रहेगा। वाहनों की पार्किंग की भी सुविधा बढ़ाई जाएगी।

स्टेशन को बनाया जा रहा अत्याधुनिक

इस बारे में रांची रेल मंडल के सीनियर डीसीएम निशांत कुमार ने बताया कि रांची स्टेशन को अत्याधुनिक बनवाया जा रहा है। ईपीसी के तहत काम करवाया जाएगा। पूरे प्रोजेक्ट की लागत 447 करोड़ रुपए है। यह रि-डेवलपमेंट कार्य ढाई साल में पूरा कराने का लक्ष्य है। फिलहाल टेंडर की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। अलग-अलग कंपनियों के कोटेशन मिलने के बाद कम दर और गुणवत्तापूर्ण काम करने वाली एजेंसी का चयन किया जाएगा। फिर उन्हें वर्क ऑर्डर जारी कर दिया जाएगा। टेंडर प्रक्रिया पूरी होने में दो महीने का समय लग सकता है।