दिल्ली में टूटा 19 सालों का रिकॉर्ड, पूरे दिन दिल्ली में हो सकती है बारिश!

देश की राजधानी में शुक्रवार रात से बारिश हो रही है। दिल्ली में इस साल भले ही मानसून ने देर से दस्तक की हो, लेकिन इसने 18 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया। राजधानी दिल्ली में इस मानसून सीजन में अब तक 1005.3 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई। यह 2010 के बाद से पहली बार है, जब दिल्ली में बारिश ने मानसून में 1000 मिमी का आंकड़ा पार किया। इससे पहले 1 सितंबर को दिल्ली में 19 साल बाद एक दिन की ज्यादा बारिश का रिकॉर्ड बना था।

मौसम विभाग के मुताबिक, शनिवार को पूरे दिन बादल छाए रहने के साथ भारी बारिश जारी रहेगी. इससे पहले मौसम विभाग (Weather Department) ने बारिश को देखते हुए येलो अलर्ट जारी किया था. यही नहीं, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भारी बारिश और तेज हवाओं के बीच तापमान में गिरावट आयी है. दिल्ली का तापमान सामान्य से 3 से 4 डिग्री नीचे पहुंच गया है.

भारी बारिश के चलते दिल्ली के कई इलाके जलमग्न हो गये.. नॉएडा में शुक्रवार शाम को हुई कुछ मिनटों की बारिश ने सड़कों को जलमग्न कर दिया. साल 2011 के बाद यह पहला मौका है जब दिल्ली में इतनी ज्यादा बारिश हुई है।  पहली बार मॉनसून (Monsoon 2021) ने 1000 एमएम के आंकड़े को पार किया है।  मौसम विभाग के अनुसार अभी भी बारिश का सिलसिला जारी रहने वाला है.

ये भी पढ़ें : झारखंड के 18 जिले कोरोना शून्य, राज्य में 16 नए मरीज

मौसम विभाग ने दिल्‍ली के साथ फरीदाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद, मेरठ, मोदीनगर, हापुड़, बुलंदशहर के आसपास क्षेत्रों में 20-40 किमी/ घंटे की गति की हवा चलने के साथ मध्यम से भारी बारिश की संभावना बताई है. जबकि दिल्‍ली-एनसीआर और यूपी के अलावा आज यानी 11 सितंबर को पश्चिमी राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भी भारी बारिश देखने को मिल सकती है.

दरअसल मौसम पर‍िस्‍थ‍ित‍ियों में हो रहे बदलाव और हिंद महासागर में दो मौसमी परिस्थितियों के सक्र‍िय होने का असर सिर्फ दिल्ली  ही नहीं बल्‍क‍ि उत्‍तर भारत और मध्‍य भारत के राज्‍यों में देखने को मिल रहा है. राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र के वैज्ञानिक मानते हैं कि अभी 10 दिनों तक बारिश की संभावना बनी हुई है.

मौसम विभाग की माने तो अगस्त महीने में 24 फीसद कम बारिश दर्ज की गई। मौसम विभाग ने शुक्रवार को कहा कि यह 12 वर्षो में न्यूनतम है। देश में कमजोर मानसून के दो बड़े सप्ताह नौ से 16 अगस्त और 23 से 27 अगस्त साबित हुए। देश के उत्तर पश्चिम, मध्य और इससे जुड़े प्रायद्वीप एवं पश्चिमी तट में वर्षा की स्थिति कमजोर रही।जून महीने में 10 फीसद अधिक वर्षा हुई, लेकिन जुलाई और अगस्त में क्रमश: सात और 24 फीसद कम वर्षा दर्ज की गई। मध्य भारत में 39 फीसद कम वर्षा हुई।.

ये भी पढ़ें : United Kingdom: कोरोना के बीच एक और खतरा! हो रही बिल्लियों की रहस्यममयी मौत

हालाँकि मौसम विभाग ने दिल्ली समेत देश के कई राज्यों में बारिश की संभावाना जताई है. आईएमडी का अनुमान है कि दिल्ली के अलावा गुरुग्राम, नोएडा, फरीदाबाद, करनाल और मानेसर आदि में शनिवार को पूरे दिन भारी बारिश हो सकती है। इसके चलते आईएमडी ने ऑरेंज अलर्ट जारी कर दिया है। मौसम विभाग ने भारी बारिश के दौरान 20 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने का भी अनुमान जताया है। इसके अलावा पशिम बंगाल, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, झारखंड समेत कई क्षेत्रों में बारिश का पूर्वानुमान जारी किया गया है.

मौसम विभाग के अनुसार आज शाम के बाद राजधानी रांची समेत राज्य के दक्षिणी हिस्सों के मौसम में बदलाव आएगा। बताया जा रहा है कि बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है। इसके अगले 24 घंटे में और गहरा होने की संभावना है। इसका असर 11 सिंतबर की शाम से झारखंड के विभिन्न जिलों में देखने को मिलेगा। इस दौरान राज्य के दक्षिणी जिले पूर्वी सिंहभूम, पश्चिमी सिंहभूम, सिमडेगा और सरायकेला-खरसावां में भारी बारिश के साथ मेघ गर्जन और वज्रपात की भी संभावना है।