ग्रामीण विकास सचिव ने जेएसएलपीएस के अधिकारियों को प्रभावी तरीके से काम करने का दिया निर्देश

ग्रामीण विकास सचिव डॉ. मनीष रंजन ने आज झारखण्ड स्टेट लाईवलीहुड प्रमोशन सोसाईटी द्वारा क्रियान्वित विभिन्न योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की। हेहल स्थित जेएसएलपीएस राज्य कार्यालय में सचिव, ग्रामीण विकास एवं श्रीमती नैन्सी सहाय, मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी, जेएसएलपीएस ने एनआरएलएम, जोहार, महिला किसान सशक्तिकरण परियोजना एवं टपक सिंचाई परियोजना के क्रियान्वयन से जुड़े विभिन्न अधिकारियों से प्रगति पर सीधी चर्चा की। श्री मनीष रंजन ने विकासात्मक एवं कल्याणकारी योजनाओं को लक्ष्य मुताबिक ससमय पूरा करने का निदेश दिया एवं ग्रामीण आजीविका सशक्तिकरण पर विशेष ध्यान देने की जरुरत बताया।

जोहार परियोजना अंतर्गत उत्पादक कंपनियों के टर्न ओवर बढ़ाने के लिए कदम उठाएं- सचिव,ग्रामीण विकास

जोहार परियोजना के क्रियान्वयन में अपेक्षित गति लाने का निर्देश देते हुए डॉ. मनीष रंजन ने कहा कि जोहार एक समयबद्ध परियोजना है जिसके लक्ष्यों को ससमय पाने के लिए अनुश्रवण पर ध्यान देने की जरुरत है। उन्होने जोहार परियोजना द्वारा गठित उत्पादक कंपनियों की संख्या आवश्यकतानुसार बढ़ाने की जरुरत पर बल दिया एवं उत्पादक कंपनियों के टर्न ओवर पर चिंता जताई। जोहार अंतर्गत उत्पादों की बिक्री के ज्यादा अवसर किसानों को उपलब्ध कराने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने का निदेश दिया। वहीं जोहार अंतर्गत गठित उत्पादक कंपनियों के टर्न ओवर को परियोजना लक्ष्य मुताबिक 100 करोड़ तक ले जाने के लिए कार्य करने का निर्देश दिया। ग्रामीण विकास सचिव ने जोहार परियोजना अंतर्गत उच्च मूल्य कृषि की गतिविधियों को धरातल पर उतारने के लिए मास्टर ट्रेनर की संख्या बढ़ाने का निदेश दिया एवं प्रशिक्षण की गुणवत्ता सुनिश्चित कर उसे और प्रभावी बनाने का निदेश दिया। जोहार अंतर्गत लिफ्ट सिंचाई परियोजना के क्रियान्वयन पर असंतोष जाहिर करते हुए ग्रामीण विकास सचिव ने लक्ष्य अनुरूप सिंचाई परियोजनाओं का लाभ ग्रामीण परिवारों तक पहुंचाना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। सिंचाई यूनिट के रखरखाव के लिए स्थानीय उत्पादक समूहों को जागरुक करने की जरुरत पर कार्य करने की बात कही।

आजीविका फार्म फ्रेश मॉडल को अन्य जिलों में विस्तार करें- सचिव, ग्रामीण विकास

डॉ. मनीष रंजन ने राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत रांची में संचालित आजीविका फार्म फ्रेश के जरिए ताजी सब्जियों की होम डिलीवरी सर्विस की सराहना करते हुए उसे अन्य जिलों में शुरू करने एवं पलाश उत्पादों को भी उसमें जोड़ने का निर्देश दिया। राज्य में जैविक खेती को बड़े स्तर पर बढ़ाने की जरुरत है साथ ही सर्टिफिकेशन कराना भी सुनिश्चित किया जाए ताकि किसानों को उत्पादों की और अच्छी कीमत मिल सके। ग्रामीण विकास सचिव डॉ. मनीष रंजन ने कहा कि सखी मंडल की दीदियों को आर्थिक सबल बनाने के लिए क्रेडिट लिंकेज पर और ज्यादा ध्यान देने की जरुरत है। वहीं ग्रामीण विकास सचिव ने एफएफपी भवन स्थित ग्रामीण विकास विभाग के कार्यालय में दीदी कैंटीन खोलने के लिए अवश्यक कदम उठाने का निदेश दिया ।

समीक्षा बैठक के दौरान सीईओ जेएसएलपीएस श्रीमती नैन्सी सहाय, परियोजना निदेशक , जोहार समेत राज्य कार्यक्रम प्रबंधक एवं कार्यक्रम प्रबंधक उपस्थित थे।