रूस ने बनाया दुसरा कोरोना वैक्सीन, चीन में हो रहा है कोरोना वैक्सीन का इस्तेमाल, भारत में जल्द आ सकती है देसी वैक्सीन

कोरोना महामारी के बीच पूरी दुनिया से इसके वैक्सीन को लेकर अच्छी खबरें लगातार सामने आ रही है.भारत भी इसकी वैक्सीन तैयार करने के काफी नजदीक पहुंच चुका है. आधिकारिक जानकारी के अनुसार, देश में तीन वैक्सीन सफलता के करीब है. इस रेस में सबसे आगे है सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया की वैक्सीन. ये ऑक्‍सफर्ड यूनिवर्सिटी की डेवलप की गई वैक्‍सीन का ट्रायल और प्रॉडक्‍शन कर रही है. इस वैक्सीन को भारतीय कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ‘कोविशील्ड’ नाम से बना रही है. फिलहाल देश में इस वैक्सीन का फेज-3 ट्रायल चल रहा है. इसके बाजार में आने को लेकर बड़े-बड़े दावे किए जा रहे हैं कि यह वैक्सीन जल्द ही बाजार में उपलब्ध होगी.

Coronavirus Vaccine Update serum institute Oxford University ...

कुछ खबरों में बताया जा रहा था कि यह वैक्सीन 73 दिन बाद ही बाजार में उपलब्ध हो जाएगी. लेकिन अपनी ने इन खबरों को गलत बताया है. कंपनी का कहना है कि ये केवल कयास है, आधिकारिक सूचना नहीं है.

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि “कंपनी स्पष्ट करती है कि मीडिया में COVISHIELD की उपलब्धता पर किए जा रहे दावे पूरी तरह से गलत और केवल अनुमान आधारित हैं. वर्तमान में, सरकार ने हमें केवल वैक्सीन के उत्पादन की अनुमति दी है और भविष्य में इस्तेमाल करने के लिए भंडार करने की अनुमति दी है”, कंपनी ने कहा है कि वैक्सीन बाजार में तभी आएगी, जब ट्रायल सफल हों और रेगुलेटरी अप्रूवल मिल जाए…

वही इस बीच रूस ने एक और चौकांने वाला दावा किया है. रुस का कहना है कि उसने कोरोना वायरस की एक और नई वैक्सीन तैयार कर ली है. इससे पहले 11 अगस्त को रूस के राष्ट्रपति ने कहा था कि रूस ने कोरोना वायरस की सफल वैक्सीन तैयार कर ली है. ऐसा करने वाला रूस दुनिया का पहला देश बन गया था. अब रूस ने दूसरी वैक्सीन तैयार करने का दावा किया है. डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, रूस का कहना है कि पहली वैक्सीन के जो साइड इफेक्ट सामने आए थे, वह नई वैक्सीन लगाने पर नहीं होंगे.साथ ही रूस को उम्मीद है कि अक्टूबर तक इस वैक्सीन को रजिस्टर कर लिया जाएगा और नवंबर से इसका उत्पादन शुरू हो जाएगा.

Coronavirus Vaccine Update serum institute Oxford University ...

इधर कोरोना वायरस फैलने की जानकारी दुनिया को देरी से देने वाला चीन वैक्सीन का इस्तेमाल भी चुपचाप कर रहा है. खबरों के मुताबिक चीन में पिछले एक महीने से कोरोना की वैक्सीन का इस्तेमाल शुरू हो चुका है. चीन के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, चीन में चिकित्सा कर्मियों और सीमा निरीक्षक अधिकारियों को एक महीने से अधिक समय से कोरोना का टीका लगाया जा रहा है. हालांकि,अधिकारी ने ये नहीं बताया है कि एक ही कोरोना टीके का इस्तेमाल शुरू हुआ है या एक से अधिक का.फिलहाल चीन में 7 कोरोना वैक्सीन पर काम चल रहा है, जिनमें से 4 अंतिम फेज की टेस्टिंग में शामिल हैं.

तो ये रहे कोरोना वैक्सीन से जुड़े लेटेस्ट अपडेट..ऐसे ही तमाम अपडेट के लिए हमारे साथ जुड़े रहे..और पढ़ते रहे पर्यावरण पोस्ट