दिल्ली में पानी के लिए मचेगा हाहाकार, पीएमओ, राष्ट्रपति, सुप्रीम कोर्ट के साथ-साथ आम लोगों पर होगा असर

दिल्ली में पीने के पानी को लेकर अक्सर विवाद मचा रहता है एक बार फिर अब पानी में होने वाली कटौती से दिल्ली वालों के सामने परेशानी आन पड़ी है. हालाँकि इस बार पानी की कमी के चलते राष्ट्रपति भवन, पीएमओ, सुप्रीम कोर्ट समेत अन्तराष्ट्रीय सारे अंतरराष्ट्रीय दूतावास आदि के साथ साथ आम लोगों पर इसका असर पड़ने वाला है.

दरअसल केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय की एजेंसी भांखड़ा नांगल मैनेजमेंट बोर्ड रिपेयर मेंटेनेंस के चलते अब 25 मार्च से 24 अप्रैल तक ब्‍यास हाइडल चैनल बंद करने जा रही है. इसके बाद दिल्ली में पानी को लेकर आने वाले समय में हाहाकार मचने की आशंका है. दिल्ली के कुल जलापूर्ति का 25 प्रतिशत हिस्सा ब्‍यास नदी के पानी का है.

हालाँकि अब इस मुद्दे को लेकर दिल्ली जल बोर्ड के अध्यक्ष राघव चड्ढा एक्टिव दिखाई दे रहे हैं. उन्होंने केंद्र सरकार और हरियाणा सरकार के साथ-साथ बोर्ड को चिट्ठी लिख कर मेंटेनेंस का कार्य स्थगित करने का अनुरोध किया है. इसके साथ राघव चड्ढा ने  दिल्ली में जलापूर्ति कम न करने और इस मुद्दे पर सभी हितधारकों के साथ बैठक बुलाने की मांग की है.दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा ने बताया कि दिल्ली एक ऐसा राज्य है, जिसके चारों तरफ राज्य हैं और जमीन से घिरा हुआ है. हमारी अपनी कोई वाटर बॉडी नहीं है, जिसके चलते दिल्ली वालों को अपनी जलापूर्ति के लिए चार स्रोतों पर निर्भर होना पड़ता है. इन चार स्रोतों से जो पानी आता है, उसी पानी को हम दिल्ली के घर-घर तक पहुंचाते हैं.

इन चार स्रोतों में पहला- यमुना नदी का पानी है, जो मुख्य तौर पर हरियाणा से होकर आता है. दूसरा, गंगा नदी का पानी है, जो मुख्य तौर पर उत्तर प्रदेश से होकर आता है. तीसरा, रावी-व्यास नदी का पानी है, जो नांगल से होकर आता है और चौथा, भूमिगत पानी है, जिसे हम रिचार्ज करते हैं और फिर उसे निकाल कर घर-घर तक दिल्ली में पहुंच जाते हैं. हम इन चार बड़े स्रोतों से दिल्ली के घर-घर तक पानी की आपूर्ति करते हैं.

राघव चड्ढा ने कहा कि हमें 12 फरवरी 2021 को हरियाणा सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी द्वारा एक चिट्ठी लिखी गई है, जिसमें उन्होंने कहा है कि 25 मार्च 2021 से 24 अप्रैल 2021 यानि पूरे एक महीने तक यह नांगल हाइडल चैनल बंद रहेगा.इस संबंध में दिल्ली जल बोर्ड ने 19 फरवरी 2021 को एक चिट्ठी लिखी है. हमनें इस चिट्ठी में साफ तौर से केंद्र सरकार, हरियाणा सरकार और भांखड़ा व्यास मैनेजमेंट बोर्ड को लिखकर यह कहा है कि दिल्ली वाले अपनी जलापूर्ति के लिए रावी व्यास नदी के इस पानी पर यह निर्भर हैं और आप इस पानी की आपूर्ति को कतई न कम करें.

प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोलते हुए आप नेता राघव चड्डा ने कहा कि दिल्ली में गर्मी में पानी की खपत बढ़ जाती है लेकिन केंद्र सरकार नंगल हाइडल चैनल को बंद कर ब्यास नदी के पानी को एक महीने के लिए रोकने जा रही है। इससे दिल्ली में प्रति दिन 232 मिलियन गैलन पानी की कमी हो जाएगी, जो दिल्ली की जल आपूर्ति का 25% हिस्सा है।