दिल्ली में बारिश के बाद तापमान में गिरावट, केरल में भी नही हुई सामान्य बारिश

राजधानी दिल्ली में शुक्रवार को हुई बारिश के बाद लोगों को लू से राहत मिली है लेकिन गर्मी से अभी रहत मिलने की उम्मीद नही दिखाई दे रही है.  शुक्रवार को दिन में दिल्ली, पंजाब, राजस्थान, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के कई जिलों में पारा 40 से 45 डिग्री तक पहुंच गया था लेकिन शाम को हुई बारिश से लोगों को कुछ राहत मिली.

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि शनिवार को आसमान में बादल छाए रहने और हल्की बारिश का अनुमान है। उसने कहा कि अधिकतम तापमान में दो डिग्री सेल्सियस की गिरावट आ सकती है। हालांकि यह राहत कुछ समय के लिए हो सकती है। रविवार से अगले सप्ताह बुधवार तक अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने का अनुमान है और उमस लोगों की परेशानी बढायेगी।

मौसम विभाग का कहना है कि शनिवार से अरब सागर से नम हवाएं गुजरात, राजस्थान और दिल्ली पहुंचने लगेंगी. तब गर्मी से कुछ राहत मिल सकती है. लेकिन फिर भी दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में 7 जुलाई तक मॉनसून दस्तक नहीं देगा. 7 जुलाई के बाद बंगाल की खाड़ी से आने वाली हवाएं उत्तर भारत में पहुंचने लगेंगी. तब मॉनसून फिर सक्रिय होगा. 11-12 जुलाई को बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र भी बनेगा, जिससे कमजोर पड़े मॉनसून को ताकत मिलेगी.

देश में मॉनसून केरल के रास्ते ही प्रवेश करता है लेकिन दक्षिण पश्चिमी मॉनसून के आगमन के लगभग एक महीने बाद भी केरल में अब तक बेहद कम बारिश हुई है। विभाग ने कहा कि एक जून से 30 जून के बीच, राज्य के 14 में से 13 जिलों में कम वर्षा हुई है और केवल एक जिले में सामान्य बरसात हुई है.

मौसम पूर्वानुमान एजेंसी स्काईमेट के अनुसार पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम के कुछ हिस्सों, मेघालय, बिहार, तेलंगाना के कुछ हिस्सों, तमिलनाडु, केरल, तटीय कर्नाटक और तटीय आंध्र प्रदेश में हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है.

आईएमडी ने कहा कि मौजूदा मौसम संबंधी स्थितियों से पता चलता है कि अगले 5-6 दिनों में राजस्थान, पश्चिम उत्तर प्रदेश, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली और पंजाब में मॉनसून के आगे बढ़ने के लिए अनुकूल परिस्थितियों की संभावना नहीं है.