पर्यावरण से जुड़ी दिन भर की दस बड़ी ख़बरें, सिर्फ पर्यावरण पोस्ट पर

1. उत्तराखंड में लगी जंगलों में आग पर काबू पाने की पूरी कोशिश जारी है लेकिन आग पर अभी भी नियंत्रण नही पाया जा सका. कहा जा रहा है कि अगर भी भी पुख्ता व्यवस्था नहीं की गई, तो मॉनसून आने तक 10 प्रतिशत से अधिक जंगल आग की चपेट में आ सकते हैं। हालाँकि आग बुझाने के काम में वायुसेना के हेलीकाप्टर को लगाया है साथ में NDRF के जवानों को भी आग बुझाने के लिए लगाया गया है.

2. उत्तराखंड वन विभाग की रिपोर्ट के अनुसार, 1 अक्टूबर 2020 से 4 अप्रैल 2021 तक उत्तराखंड के जंगलों में आग लगने की लगभग 1000 घटनाएं हो चुकी हैं। इनमें 1297.43 हेक्टेयर जंगल जल चुके हैं। यह क्षेत्र करीब 2300 फुटबॉल मैदानों के बराबर होता है। 3 मार्च से चार मार्च तक 65 आग की घटनाएं हुईं, जिनमें 97 हेक्टेयर से ज्यादा जंगल जले हैं। आग से सबसे अधिक नुकसान पौड़ी में हुआ है। यहां 92 घटनाओं में 217.4 हेक्टेयर जंगल जल चुके हैं। पिथौरागढ़ और बागेश्वर जिलों में आग लगने की 94-94 घटनाएं दर्ज की गई हैं।

3. जलवायु परिवर्तन के लिए अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन के विशेष दूत जॉन केरी ने मंगलवार को नई दिल्ली में केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से मुलाकात की है। दोनों के बीच जलवायु, संयुक्त शोध और सहयोग के मुद्दों पर चर्चा हुई। जावड़ेकर ने ट्वीट कर बताया, ‘जलवायु के लिए राष्ट्रपति के विशेष दूत जॉन केरी के साथ अच्छी बातचीत हुई। हमने कई मुद्दों पर बात की।’ भारत के दौरे पर आने वाले जॉन केरी बाइडन प्रशासन के दूसरे शीर्ष अधिकारी हैं। केरी भारत के अलावा अबू धाबी और बांग्लादेश की राजधानी ढाका का भी दौरा कर रहे हैं

4. वाराणसी में शोधकर्ताओं ने पानी को साफ़ करने के लिए एक विशेष शोध किया है. शोध के अनुसार नीम और सागौन के बुरादे की राख से तैयार एक विशेष पाउडर जल में घुले सभी विषैले तत्वों और घातक धातुओं को अवशोषित कर लिया। आइआइटी के बायोकेमिकल इंजीनियरिंग विभाग में हुआ ये शोध भारत में पीने योग्य पानी की समस्या को कम कर सकती है। अब गंगा के पानी को साफ करने के लिए इसका एक प्रोजेक्ट विज्ञान और तकनीक मंत्रालय को सौंपा जाएगा प्रोफेसर डा. विशाल मिश्रा और उनकी शोधार्थी ज्योति सिंह का यह शोध अमेरिका के जर्नल आफ एनवार्यनमेंटल हेल्थ एंड सेफ्टी, अमेरिकन इंस्टीट्यूट आफ केमिकल इंजीनियर्स, बायो रेमिडिशियन में प्रकाशित हो चुका है

5. सेंटर फार साइंस एंड एन्वायरनमेंट (सीएसई) की ‘कैपिटल गेन्स- क्लीन एयर एक्शन इन दिल्ली-एनसीआर : व्हाट नेक्स्ट’ शीर्षक से जारी रिपोर्ट में ये जानकारी सामने आई है कि दिल्ली में पिछले तीन वर्षो में पीएम 2.5 का औसत 106 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर रहा है, जबकि मानकों के अनुसार सालाना औसत 40 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर से अधिक नहीं होना चाहिए। इस लिहाज से दिल्ली में पीएम 2.5 के स्तर में 62 फीसद तक सुधार की जरूरत है। वायु प्रदुषण का कहर दिल्ली ही नही बल्कि आसपास के लगभग 26 शहरों पर भी असर पड़ रहा है सबसे ज्यादा प्रदूषित हवा गाजियाबाद की है। भिवाड़ी, नोएडा, बागपत और फरीदाबाद की हालत भी चिंताजनक है।

6. दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने मंगलवार को कहा कि ‘आप’ सरकार लॉकडाउन लगाने पर विचार नहीं कर रही है और इसके लिए अन्य विकल्प तलाश रही है। एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली सरकार सभी विकल्पों और विचारों को तलाश रही है। कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए नाइट कर्फ्यू अहम भूमिका निभा सकता है, लेकिन सरकार पूरी तरह से इस पर निर्भर नहीं है। हालांकि, उन्होंने यह भी साफ कर दिया कि उनकी सरकार एक और लॉकडाउन लगाने पर विचार नहीं कर रहे हैं।

7. दिल्ली के प्रवरण मंत्री गोपाल राय ने एक प्रेस कांफ्रेस कर जानकारी दी है कि केंद्र सरकार द्वारा दिए गए वृक्षारोपण के लक्ष्य 15.20 लाख के सामने दिल्ली सरकार ने वर्ष 2020-21 में कुल 32 लाख पौधे लगाए है. गोपाल राय ने बताया कि ये आँकड़ा केंद्र सरकार से दिए गए लक्ष्य के 210% अधिक है. जल्द ही हम अधिकारीयों के साथ बैठक अगले लक्ष्य पर चर्चा करने वाले हैं.

8. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि देश के कुल मामलों में से करीब 58 फीसदी मामले महाराष्ट्र में आ रहे हैं। वहीं कोरोना से जो मौतें हो रही हैं, उनमें से भी 34 फीसदी महाराष्ट्र से हैं। महाराष्ट्र में साप्ताहिक पॉजिटिविटी रेट फरवरी में 6 फीसदी पर आ गई थी। अब यह 24 फीसदी पर पहुंच गई है, जो कि चिंता का विषय है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने 15 हाईलेवल टीमें बनाई हैं। जो महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ और पंजाब में जाएंगी। ये टीमें महाराष्ट्र के 30 जिलों, छत्तीसगढ़ के 11 जिलों और पंजाब के 9 जिलों में जाएंगी और हालात का जायजा लेते हुए रोजाना अपनी रिपोर्ट केंद्र को भेजेंगी।

9. मौसम विभाग के मुताबिक कई राज्यों में अधिकतम तापमान सामान्य से ज्यादा दर्ज किया जा चुका है। उत्तराखंड और अरुणाचल प्रदेश के कई इलाकों में सोमवार को तापमान सामान्य से 5.1 डिग्री तक ज्यादा रिकॉर्ड किया गया। इसके अलावा हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिम उत्तर प्रदेश राजस्थान और पंजाब में भी तापमान में बढ़ोतरी हुई है। इस प्रदेशों के कई इलाकों में अधिकतम तापमान सामान्य से 3.1 से 5 डिग्री तक ज्यादा दर्ज किया गया। हिमाचल प्रदेश, अंडमान और निकोबार, तेलंगाना के साथ ही देश के कई इलाकों में तापमान सामान्य से कम रिकॉर्ड किया गया.

10. झारखंड में पारा के ऊपर चढ़ने का सिलसिला लगातार जारी है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले 2 दिनोंं में राज्य के तापमान में 3 डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी दर्ज की जाएगी। 8 अप्रैल से मौसम में बदलाव संभव है। रांची समेत राज्य के कई जिलों में 8 अप्रैल से बादल देखने को मिल सकते हैं। आठ और नौ अप्रैल को हल्की बारिश की संभावना है। वहीं इस बीच रांची का न्यूनतम और उच्चतम तापमान सामान्य तापमान से ऊपर पहुंच गया है। पिछले 24 घंटे में रांची का अधिकतम तापमान 36.7 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 18.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। जो समान्य तापमान से लगभग 2 डिग्री सेल्सियस अधिक है।