नीतीश के नेतृत्व में 10 दलों के प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री से की मुलाकात

नई दिल्ली: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में एक सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल ने जाति आधारित जनगणना के मुद्दे पर सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की।

साउथ ब्लॉक में प्रधानमंत्री से 40 मिनट की मुलाकात के बाद नीतीश ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि जाति आधारित जनगणना के समर्थन में बिहार के 10 दलों के प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री से मुलाकात की है। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर बिहार और पूरे देश के लोगों की राय एक जैसी है।

नीतीश ने कहा कि जाति जनगणना से विकास योजनाओं को प्रभावी ढंग से तैयार करने में मदद मिलेगी।प्रधानमंत्री का धन्यवाद करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने इस मुद्दे पर हमारी पूरी बात सुनी इसके लिए हम उनके शुक्रगुजार हैं। अब उन्हें (प्रधानमंत्री) इस पर निर्णय लेना है।

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के तेजस्वी यादव ने कहा, हमारे प्रतिनिधिमंडल ने आज न केवल बिहार में बल्कि पूरे देश में जाति आधारित जनगणना के लिए प्रधानमंत्री से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि देश में जब जानवर और पेड़-पौधों की गणना होती है तो लोग भी गिने जा सकते हैं। देश में धर्म के आधार पर भी गणना हुई है।

गरीबों के हित में जातिगत जनगणना को ऐतिहासिक उपाय बताते हुए उन्होंने कहा कि एक बार जातिगत जनगणना पूरी होने के बाद साफ हो जाएगा कि किस समुदाय के लिए कौन सी कल्याणकारी योजना बनाई जा सकती है। उन्होंने कहा कि अब हम इस पर निर्णय का इंतजार कर रहे हैं।

नीतीश के साथ नजदीकी के सवाल पर तेजस्वी यादव ने कहा कि विपक्ष ने हमेशा जनता की भलाई और राष्ट्रीय हित के मुद्दों पर सरकार का समर्थन किया है प्रतिनिधिमंडल में नीतीश कुमार, तेजस्वी यादव, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के जीतन राम मांझी, विकासशील इंसान पार्टी के मुकेश सहनी और बिहार के अन्य नेता भी शामिल थे।