इतनी गर्मी की रिकॉर्ड 54 डिग्री के पार पहुंचा पारा,मौत की घाटी के नाम से जाना जाता है ये जगह

अमेरिका के कैलिफोर्निया की डेथ वैली यानी मौत की घाटी में भयानक और खतरनाक गर्मी का दौर जारी है. अमेरिकी मौसम विभाग के मुताबिक, यहां तापमान तीन अंकों में चला गया है.यहां का तापमान रविवार को 130 डिग्री फैरेनहाइट में पहुंच गया यानी 54.4444 डिग्री सेल्सियस.

माना जा रहा है कि ये धरती के इतिहास में ऐसा तीसरी बार है जब तापमान इतना ज्यादा पहुंच गया है. यही नहीं ये जानलेवा गर्मी 89 साल बाद रिकॉर्ड की गई है. डेथ वैली में जिस जगह तापमान 54.4 डिग्री सेल्सियस मापा गया उस जगह का नाम फरनेस क्रीक है. यहीं पर इससे पहले 1913 में 10 जुलाई को 56.67 डिग्री सेल्सियस पारा पहुंचा था. जो धरती का अब तक का सबसे ज्यादा दर्ज किया गया तापमान है.

इतनी गर्मी कि थर्मामीटर टूट जाए, डेथ ...

वही इसके बाद 1931 में ट्यूनीशिया में 55 डिग्री सेल्सियस तापमान रिकॉर्ड किया गया था. लेकिन दोनों तापमान जुलाई महीने के थे.लेकिन अब अगस्त महीने में यहां 54 से ज्यादा तापमान दर्ज किया गया है. इसको लेकर ऐसा कहा जा रहा है कि अगस्त के महीने में इतना तापमान शायद पहली बार पहुंचा है. इस बात को लेकर जांच चल रही है कि कही ये अगस्त के महीने में धरती पर रिकॉर्ड किया गया अब तक का सबसे ज्यादा तापमान तो नहीं है. हालांकि यहां पिछले कुछ सालों में पारा तीन बार 53.9 डिग्री के अंक तक पहुंचा था.

अब वैज्ञानिक इस बात पर शोध कर रहे है कि इतना तापमान बढ़ने की वजह क्या है, भविष्य में इसकी वजह से पड़ने वाले दुष्प्रभावों क्या होंगे,इसका संबंध क्लाइमेट चेंज से कितना है. इसका संबंध ग्लोबल वार्मिंग से कितना है…इन सारे पहलुओं पर अध्ययन चल रहा है.

बता दें कि डेथ वैली के बढ़ते तापमान को देखते हुए यहां घूमने जाने वाले पर्यटकों को हिदायत दी जाती है कि वो पहले से ही 4-5 लीटर पानी पीकर जाएं. इसके साथ ही घूमते वक्त भी इतना पानी पीते रहें.इसके अलावा अपने साथ पानी का स्ट्रोक रखे क्योंकि इस जगह पर कुछ ही देर में आदमी गर्मी की वजह से गंभीर अवस्था में पहुंच जाता है और बीमार हो जाता है. यहां बढ़ने वाले तापमान को देखकर सोचने वाली बात ये है कि धरती कितनी तेजी के साथ गर्म हो रही है. ऐसे में धरती का बहुत तेजी के साथ गर्म होना भविष्य के लिए एक भयावह खतरा साबित होगा.