पुरानी बस को ही बना डाला महिला शौचालय, फीडिंग रूम की भी सुविधा

कर्नाटक सरकार द्वारा एक बहुत ही शानदार काम किया गया है. इस काबिले तारीफ काम से हर राज्य को सीख लेनी चाहिए. दरअसल, कर्नाटक राज्य सड़क परिवहन निगम(KSRTC) ने कबाड़ घोषित हो चुकी पुरानी बस को महिलाओं के शौचालय में तब्दील कर दिया है. KSRTC के मुताबिक, पूरी परियोजना पर 12 लाख रुपये का खर्च आया है. इसपर खर्च की गई हुई राशि बेंगलुरु अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा प्राधिकरण (BIAL) ने निगम सामाजिक जिम्मेदारी (CSR) के तहत वहन की है.

महिलाओं के लिए पिंक बस, जिसमें टॉयलेट से लेकर फीडिंग रूम तक है उपलब्ध -  YouTube

यहां आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पुरानी बस में कुल पांच शौचालय हैं जिनमें तीन भारतीय और दो Western style में बने हैं. इसके साथ ही ट्वालेट में सैनिटेरी नैपकीन वेंडिंग मशीन और इस्तेमाल नैपकिन को नष्ट करने की मशीन भी लगी हुई है.

पुणे में पुरानी बसों को बदला जा रहा है 'पिंक टॉयलेट' में. Buses Into  Women's Toilets In Pune.

KSRTC के मुताबिक, स्त्री टॉयलेट में बिजली की व्यवस्था सौर ऊर्जा से होती है. शौचालय में सौर संवेदी प्रकाश, वाश बेसिन और नैपकिन बदलने का स्थान है.इसके अलावा इस शौचालय में फीडिंग रूम यानी बच्चे को दूध पिलाने की भी सुविधा है.

गुरुवार को इस सुविधा का उद्घाटन राज्य के उप मुख्यमंत्री लक्षमण सावडी और परिवहन विभाग के प्रभारी ने किया. यह स्त्री टॉयलेट बस बेंगलुरु के सेंट्रल बस स्टैंड पर ही खड़ी की जाएगी. ये ‘स्त्री टॉयलेट’ सरकारी परिवहन निगम और बीआईएएल की पहल है. इस पहल की देशभर में तारीफ हो रही है.