कोरोना वैक्सीन को लेकर अब दुनिया का इंतजार खत्म! यहां पढ़े वैक्सीन से लेकर अपडेट तक की सारी खबरें

एक तरफ जहां दुनिया भर में लगातार कोरोना के मामले बढ़ रहे है तो वही दुसरी ओर इसके वैक्सीन को लेकर भी तेजी से काम हो रहा है. WHO के मुताबिक, दुनियाभर में 200 से ज्यादा प्रोजेक्ट पर काम हो रहा है, जिनमें से 21 से ज्यादा वैक्सीन क्लिनिकल ट्रायल में है.भारत, ब्रिटेन, रूस, अमेरिका, इस्रायल, चीन आदि देश वैक्सीन बनाने के काफी नजदीक पहुंच चुके हैं. रूस से तो शुक्रवार की शाम वैक्सीन को लेकर बड़ी और अच्छी खबर आई है. खबरों के मुताबिक, एक रूसी वैक्सीन का चार दिन बाद पंजीकरण होने जा रहा है. यानी यह दुनिया की पहली पंजीकृत कोरोना वायरस वैक्सीन होगी. वही रूस के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा है उनके भरोसेमंद वैक्सीन का ट्रायल पूरा हो चुका है. अब उसके वैज्ञानिकों पर यह निर्भर करता है कि वो वैक्सीन को बाजार में कब लाते हैं. वही वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि वे इस वैक्सीन को आम जनता के उपयोग के लिए 10 अगस्त तक मंजूरी दिलवा लेंगे. लेकिन सबसे पहले फ्रंटलाइन हेल्थवर्कर्स को ये वैक्सीन दी जाएगी. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ये वही वैक्सीन है जिसे गामालेया इंस्टीट्यूट ने बनाया है.

कोरोना वायरस से जंग में अमेरिका ने ...

हालांकि दुनिया के कई देशों ने रूस के वैक्सीन बनाने की हड़बड़ाहट पर सवाल खड़े किए हैं. विशेषज्ञों ने आशंका जाहिर की है कि इस वैक्सीन का उत्पादन बहुत जल्दबाजी में किया जा रहा है. ऐसे में इस वैक्सीन की जांच की मांग भी उठ रही है.

वही इन सब के बीच अमेरिका से भी वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर आ रही है. खबर ये है कि कोरोना वायरस की वैक्सीन इस साल नवंबर तक आ सकती है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि 3 नवंबर को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव से पहले वैक्सीन तैयार की जा सकती है. राष्ट्रपति ने कहा कि वैक्सीन को लेकर कई रिसर्च चल रहीं हैं और जल्द ही हमें सफलता मिलेगी. हालांकि, ट्रंप की यह डेडलाइन अमेरिकी विशेषज्ञों द्वारा बताई गई समयसीमा से काफी पहले है.

वही अमेरिकी विशेषज्ञ एंथनी फाउची ने कहा है कि कोरोना वैक्सीन के पूरी तरह प्रभावी होने की संभावना बहुत कम है. लेकिन 50 से 60 फीसदी प्रभावी होने पर भी वैक्सीन स्वीकार्य की जाएगी.

तो चलिए आपको यहां ये भी बता देते है कि भारत में कोरोना की क्या स्थिति है. देश में कोरोना का ग्राफ तेजी से ऊपर की ओर बढ़ रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, बीते 24 घंटों में देश में देश में 61 हजार 537 नए मामले दर्ज किए गए और 933 लोगों की मौत हो गई. जबकि एक दिन पहले 62 हजार 538 मामले आए थे, जो अभी तक एक दिन में सबसे ज्यादा मामले हैं.

इसके साथ ही देश में कुल 20 लाख 88 मामले सामने आ चुके हैं.जिनमें से 42 हजार 518 लोगों की मौत हो चुकी है. वही एक्टिव मरीजों की संख्या 6 लाख 19 हजार है. जबकि, 14 लाख 27 हजार लोग ठीक हो चुके हैं. देश में कोरोना से ठीक होने वालों का रिकवरी रेट 68.32% है.वही मृत्यु दर गिरकर 2.03 फीसदी पर आ गई है.

आपको बता दें कि बीते 22 दिन में 10 लाख से अधिक नए केस सामने आए हैं. इसका सीधा मतलब ये है कि जैसे जैसे दिन आगे बढ़ रहे हैं,वैसे ही देश में कोरोना का कहर भी बढ़ रहा है. ऐसे में जरूरत है सावधान रहने की. हालांकि बढ़ते कोरोना मामलों के बीच इसके वैक्सीन को लेकर अब दुनिया का इंतजार खत्म होता दिख रहा है.