ये हैं दिल्ली की सबसे खतरनाक सड़कें, सबसे ज्यादा मौतें इन्ही तीन सड़कों पर होती है!

भारत में जितने सैनिक युद्ध में शहीद नही हुए उससे ज्यादा लोगों की जान सड़क दुर्घटना में चली हई.. आकड़ों की माने तो पिछले एक दशक में ही भारत में लगभग 14 लाख लोग सड़क दुर्घटनाओं में मारे गए हैं।
राजधानी दिल्ली की सड़के दुनिया की सबसे अच्छी मानी जाती है इतना ही नही इन सड़कों की तुलना तो विदेशों में बनी हाईटेक सड़कों से की जाती है.. लेकिन राजधानी दिल्ली की तीन सड़के ऐसी भी है जिन्हें अगर ख़ूनी सड़क कहा जाए तो गलत नही होगा..

दरअसल दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के मुताबिक राजधानी में जिन 20 हादसे वाली जगहों ब्लैक स्पॉट का चिह्नित किया गया है, उनमें से 14 जगह बाहरी रिंग रोड, रिंग रोड और जीटी करनाल रोड पर मौजूद हैं. ट्रैफिक पुलिस के आंकड़ों के मुता​बिक राजधानी की सड़कों पर होने वाली मौत में से 20% मौतें इन्हीं जगहों पर हुई हैं. दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की ओर से जारी वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक इन तीन सड़कों मतलब बाहरी रिंग रोड, रिंग रोड और जीटी करनाल रोड पर पिछले साल 294 मौतें हुईं. रिपोर्ट के मुताबिक साल 2019 में पूरी राजधानी की सड़कों पर होने वाली मौत का आंकड़ा पिछले 30 सालों की तुलना में सबसे कम रहा. पिछले साल दिल्ली में केवल 1463 मौतें सड़क हादसों की वजह से हुईं
ट्रैफिक पुलिस उन जगहों को ब्लैक स्पॉट मानती है जहां पर 500 मीटर में कई हादसे होते हैं. ट्रैफिक पुलिस आमतौर पर उन इलाकों को ब्लैक स्पॉट मानती है जहां पर एक साल के तीन से अधिक मौत हो जाती है या फिर 10 से ज्यादा सड़क हादसे होते हैं. सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के अनुसार दिल्ली में वर्ष 2018 में 6,515 सड़क दुर्घटनाएं हुई थीं, जबकि वर्ष 2019 में इसकी संख्या घटकर 5,610 रह गई। इस दौरान राजधानी में सड़क दुर्घटनाओं में मौत की संख्या में भी कमी देखी गई। वर्ष 2018 में कुल 1690 लोगों की जान सड़क दुर्घटना में चली गई थी, जबकि वर्ष 2019 में दुर्घटना में मरने वालों की संख्या 1463 थी। इस प्रकार से गत वर्ष के मुकाबले 2019 में दुर्घटना में मरने वालों की संख्या 227 कम थी.. आकड़े के अनुसार दुर्घटना में यातायात के नियमों का पालन नहीं करने वाले लोगों की ज्यादा मौत हुई।


दिल्ली में सड़क दुर्घटना में सबसे ज्यादा 178 दोपहिया चालक की मौत सिर्फ हेलमेट नहीं पहने के कारण हुई। वहीं, दुर्घटना के शिकार 97 कार चालक की मौत की वजह सीट बेल्ट नहीं बांधना रहा।

तो आप जब भी गाड़ी चलाये और अपनी सुरक्षा का विशेष ध्यान दें…