देश के इस जिले में 10 सालों में सबसे कम बारिश की गई दर्ज, कई तालाब सूखे

एक तरफ जहां देश में भारी बारिश के बाद कई जगहों पर बाढ़ का कहर जारी है. तो वही दूसरी तरफ देश का एक ऐसा भी जिला है जहां 10 सालों में सबसे कम बारिश दर्ज की गई है. जी हां ये शहर है राजस्थान का अजमेर…यहां बीते 10 सालों में सबसे कम बारिश देखने को मिली है.अजमेर जिले में 58 बांध में तालाब है,लेकिन खबरों की माने तो इनमें से 23 बांध पूरी तरह से खाली बताए जा रहे हैं..यानी ये 23 तालाब जो है वो पूरी तरह से सूख गए है.

A Guide To Ana Sagar Lake, Ajmer | Trip101

दरअसल, अजमेर जिले में 550 एमएम बारिश औसत मानी जाती है. लेकिन इस बार अजमेर जिले में अब तक कुल 295 एमएम बारिश ही दर्ज की गई है, जो सिंचाई विभाग के साथ-साथ किसानों और जानवरों के लिए खतरा साबित हो सकता है. बताया जा रहा है कि, पिछले 10 साल के भीतर भी ऐसा समय कभी नहीं आया, जब बारिश औसत से भी कम दर्ज की गई हो.

खबरों के मुताबिक,अजमेर जिले में 3 बड़े बांध हैं. जिनमें इस बार पानी नहीं आया. वहीं, कुल 58 बांध तालाबों में से 23 पूरी तरह से खाली है. बस 12 बांध में ही बारिश का पानी आया है.

Ajmer Chaurasiyawas Talaab- In A Grip Of Encrochment - Ajmer- चौरसियावास तालाब पर अतिक्रमियों की गिद्धदृष्टि | Patrika News

ऐसे में अजमेर जिले में रहने वाले लोग लगातार भगवान से प्रार्थना कर रहे है कि यहां भी बारिश हो. लोग हवन यज्ञ के माध्यम से भी इंददेव की पूजा कर रहे है..जिससे कि जिले में बारिश की कमी ना हो.

हालांकि इस बीच आने वाले 15 सितंबर तक अजमेर जिले में झमाझम बारिश होने की संभावना जताई गई है. जिससे किसानों के साथ-साथ जीव- जनतुओं को भी राहत मिलेगी. सिंचाई विभाग के अनुमान के मुताबिक, आगामी 15 सितंबर तक अन्य जिलों की तरह अजमेर में भी अच्छी बारिश देखने को मिल सकती है. जिससे कि पानी की आवक दर्ज की जाएगी और अगर ऐसा नहीं होता है तो फिर, आगामी दिनों में संकट पैदा हो सकता है. ऐसे में अब देखने वाली बात ये है कि आने वाले दिनों में इंद्रदेव अजमेर पर अपनी कृपा बरसाते है या नहीं..