ऐसा पहली बार होगा जब एक Asteroid पृथ्वी के इतने करीब से गुजरेगा

बीते कई सालों में ऐसा पहली दफा हो रहा है जब एक एस्टेरॉयड (Asteroid) पृथ्वी के बहुत करीब से गुजरने वाला है. ऐसे में दुनिया भर के वैज्ञानिक धरती से इसकी नजदीकी को देखकर डर गए हैं. वैज्ञानिकों की गणना के मुताबिक, आज 24 सितंबर को आने वाले कुछ घंटों में ये Asteroid धरती के बगल से गुजरेगा.

कुछ ही घंटे बाद पृथ्वी के पास से गुजरेगा उल्कापिंड, मिले इससे पहली इंसानी  मौत के सबूत | asteroid pass through earth 29 april first evidence killing a  human - Hindi Oneindia

इस एस्टेरॉयड का नाम 2020 SW है. ये धरती के इतने करीब से गुजरने वाला है जितना हमारा चांद भी नहीं है. धरती से चांद की दूरी करीब 3.84 लाख किलोमीटर है. जबकि ये एस्टेरॉयड धरती से मात्र 28 हजार 254 किलोमीटर की दूरी से निकलेगा. यानी ये एस्टेरॉयड इंसानों द्वारा छोड़े गए टीवी, मौसम और संचार सैटेलाइट्स की कक्षा से भी कम दूरी से गुजरने वाला है. आमतौर पर सैटेलाइट्स की कक्षा 35 हजार 888 फीट की ऊंचाई पर होती है.

सेंटर फॉर नियर अर्थ ऑबजेक्ट्स यानी CNEOS के वैज्ञानिक के अनुमान के मुताबिक, ये 14 से लेकर 32 फीट तक हो सकता है. Asteroid 2020 SW आज शाम यानी 4.48 बजे यानी शाम 5 बजे के करीब धरती के बगल से गुजरेगा. ये धरती के बगल से जब गुजरेगा तब इसकी गति 27 हजार 900 किलोमीटर प्रति घंटा यानी 7.75 किलोमीटर प्रति सेकेंड होगी. इस एस्टेरॉयड को देखने के लिए कम से कम 6 से 8 इंच की डायमीटर वाला टेलीस्कोप चाहिए. इसे आप नंगी आंखों से नहीं देख सकते.

29 April Asteroid Updates: A huge Asteroid 1998 OR2 passed Safely to Earth  at a safe distance scientists breathed a sigh of relief

वैज्ञानिकों ने गणना के मुताबिक, जब ये एस्टेरॉयड धरती के सबसे नजदीक से निकलेगा तब वह ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के ऊपर होगा. वही वैज्ञानिकों को डर इस बात का सता रहा है कि अगर कहीं ये धरती के ग्रैविटी की चपेट में आ गया तो ये भारी नुकसान पहुंचा सकता है.

यहां आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस एस्टेरॉयड को पिछले सप्ताह ही खोजा गया था. 18 सितंबर को एरिजोना स्थित माउंट लेमॉन ऑब्जरवेटरी ने इस एस्टेरॉयड की खोज की थी. वैज्ञानिकों ने जब एस्टेरॉयड 2020 SW खोजा था तब इसकी चमक बहुत कम थी. लेकिन यह धरती के ओर जैसे-जैसे आगे बढ़ रहा है, इसकी चमक वैसे-वैसे बढ़ती जा रही है. ऐसे में वैज्ञानिकों को इसके ग्रैविटी में आने का डर है.