बच्चों पर नई मुसीबत, टेमैटो फीवर से केरल में 80 बच्चे बीमार, जानिए कारण और लक्षण

कोरोना महामारी का खतरा अभी पूरी तरह से टला भी नहीं है कि एक और बीमारी ने लोगों में दहशत फैला दिया है।  फूड पॉइजनिंग की हालिया घटनाओं के बीच केरल के कई हिस्सों में एक नए वायरस का पता चला है, जिसका नाम टोमैटो फ्लू (Tomato Flu) है। केरल में 80 बच्चे बीमार पड़े गए हैं और कहा जा रहा है कि इन्हें Tomato Fever या Tomato Flu (टमाटर बुखार, टेमौटो फीवर या टोमैटो फ्लू) हुआ है। जो बच्चे इस दुर्लभ बीमारी की चपेट में आये है बताया जा रहा है की उनकी उम्र पांच साल से भी कम है और आने वाले समय में यह संख्या बढ़ भी सकती है।

टोमैटो फ्लू क्या है?

टमाटर फ्लू या टेमैटो फ्लू एक अज्ञात बुखार है, जो केरल में पांच साल से कम उम्र के बच्चों में पाया गया है। आमतौर पर चकत्ते, त्वचा में जलन और शरीर में पानी की कमी के साथ इसकी शुरुआत होती है। इस फ्लू से संक्रमित बच्चो के शरीर पर छाले पड़ जाते है जो की लाल रंग के होते है और इसी वजह से इस बीमारी को टमाटर फ्लू’ या ‘टमाटर बुखार’ कहा जाता है। फिलहाल तो यह बीमारी केरल के कुछ हिस्सों में पायी गयी है लेकिन स्वास्थ्य अधिकारियो को कहना है की अगर समय रहते इस बीमारी का इलाज नहीं किए गए, तो संक्रमण अन्य क्षेत्रों में भी फैल सकता है।

कहा कहा हुआ है असर

टोमैटो फ्लू का सबसे ज्यादा असर केरल के कोल्लम, नेदुवथुर, आंचल और आर्यनकावु आदि क्षेत्रों में है। इसके अलावा केरल के पडोसी राज्यों में इसकी जांच की जा रही है।केरल में मरीज सामने आने के बाद तमिलनाडु में भी हड़कंप मच गया है। तमिल नाडु में इस संक्रमण को रोकने के लिए तमिलनाडु-केरल सीमा पर स्थित वालयार शहर में एक मेडिकल टीम तैनात की गई है जो बुखार, चकत्ते और अन्य बीमारी की जांच कर रही है। तमिलनाडु के कोयंबटूर में एक मेडिकल टीम टोमैटो फ्लू (Tomato Flu) को लेकर चकत्ते और अन्य बीमारियों की जांच कर र ही है।

टोमैटो फ्लू के लक्षण

टोमैटो फ्लू (Tomato Flu) के मुख्य लक्षणों में शरीर पर लाल रंग के चकत्ते, छाले, त्वचा में जलन और डिहाइड्रेशन शामिल हैं। इसके अलावा बच्चों में तेज बुखार, शरीर में दर्द, जोड़ों में सूजन, थकान, पेट में ऐंठन, जी मिचलाना, उल्टी, दस्त, खांसी, छींक और नाक बहने के अलावा हाथों का रंग बदलने जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं।

बचाव के उपाय

टोमैटो फ्लू (Tomato flu Prevention) के चपेट में आने पर हमें उबला हुआ पानी पीकर हाइड्रेट रहना चाहिए। इसके साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि संक्रमित बच्चा चकत्ते और छाले को ना खरोचे। संक्रमित व्यक्ति से उचित दूरी बनाकर रखें। इसके साथ ही साफ-सफाई और स्वच्छता बनाए रखें। यदि बच्चे में टोमैटो फ्लू (Tomato Flu) का कोई लक्षण दिखे तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।