उत्तराखंड हादसा: चमोली में ग्लेशियर टूटने से भारी तबाही, 10 की मौत, कई लोगों के लापता होने की आशंका

उत्तराखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर टूटने से भारी तबाही हुई है. इस तबाही में अभी तक 10 लोगों की मौत हो गई है. वही 150 से ज्यादा लोगों के लापता होने की खबर है. घटनास्थल पर आईटीबीपी, NDRF और SDRG की कई टीमें मौके पर तैनात हैं. घटना के मद्देनजर श्रीनगर, ऋषिकेश और हरिद्वार में अलर्ट जारी किया गया है. उत्तराखंड के CM त्रिवेंद्र सिंह रावत ने घटना स्थल पर पहुंच स्थिति की जानकारी ली है और अफवाहों से दूर रहने की सलाह दी है. राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत इस घटना को लेकर लगातार ट्वीट कर लोगों को इस घटना की जानकारी दे रहे है.

कर्णप्रयाग में आज 3 बज कर 20 मिनट पर नदी में पानी की बहाव की स्थिति से साफ़ है कि बाढ़ की सम्भावना बहुत ही कम है। हमारा विशेष ध्यान सुरंगों में फँसे श्रमिकों को बचाने में है और हम सभी प्रयास कर रहे हैं। किसी भी समस्या से निपटने के सभी ज़रूरी प्रयास कर लिए गये हैं. एक अन्य  ट्वीट में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जानकारी देते हुए ट्वीट किया है कि अगर आप प्रभावित क्षेत्र में फंसे हैं, आपको किसी तरह की मदद की जरूरत है तो कृपया आपदा परिचालन केंद्र के नम्बर 1070 या 9557444486 पर संपर्क करें। कृपया घटना के बारे में पुराने वीडियो से अफवाह न फैलाएं.

Image result for Glacier broken, Joshimath

चमोली जिले के जोशीमठ में ग्लेशियर फटने से धौलीगंगा नदी में बाढ़ आ गई है. पानी की गति तेजी से आगे बढ़ रही है. इसके साथ ही लिहाजा आसपास के इलाकों से लोगों को बाहर निकाला जा रहा है. इससे सबसे ज्यादा नकुसान ऋषि गंगा प्रोजेक्ट को हुआ है. बताया जा रहा है कि टनल में 15-20 लोगों के फंसे होने की आशंका है. प्रोजेक्ट पर करीब 120 लोग काम कर रहे थे. प्रोजेक्ट में काम करने वाले लोग तेज पानी में बह गए. इन लापता लोगों को रेस्क्यू करने का काम लगातर चल रहा है.