मौसम का मिजाज : बारिश और बर्फ़बारी के बाद रुक सकती है उत्तराखंड के जंगलों की आग!

कहीं पर गर्मी, कहीं पर बारिश, कहीं ओले तो कहीं पर धूल भरी आंधी…देश के मौसम का मिजाज लगातार बदल रहा है. मौसम विभाग ने मंगलवार को राजधानी में बादल छाए रहने के साथ हल्की बारिश की संभावना जताई थी, लेकिन देर शाम तक मौसम के मिजाज कोई नहीं बदलाव नही हुआ। ताजा अनुमान के मुताबिक अगले 24 घंटों में दिल्ली के ऊपर बादल मंडरा सकते है तो इससे गर्मी से राहत भी मिलेगी। अगर ऐसा नही हुआ तो इस सप्ताह गर्मी से राहत मिलने की गुंजाइश नहीं है और मौसम साफ रहने के साथ सूरज की तेज तपिश जारी रहेगी।
मंगलवार को राजधानी का अधिकतम तापमान सामान्य से तीन अधिक 38.2 डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम तापमान सामान्य से एक अधिक 20.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। दिल्ली- एनसीआर की हवा मंगलवार को खराब से लेकर बहुत खराब श्रेणी में दर्ज की गई। एनसीआर में शामिल गाजियाबाद की हवा बहुत खराब श्रेणी में रही। अगले दो दिन में दिल्ली में धूल बढ़ने की संभावना है। इससे वायु गुणवत्ता पर असर पड़ेगा। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, मंगलवार को राजधानी का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 279 दर्ज किया गया। वहीं, गाजियाबाद की हवा 307 के साथ सबसे खराब दर्ज की गई।

सफर के अनुसार, अगले 24 घंटों में दिल्ली में प्रदूषित तत्व के बढ़ने की आशंका है। उत्तराखंड में फिर से मौसम (Weather) ने अपने तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं. मैदानी इलाकों में मंगलवार को हवाओं के साथ हल्की बारिश होने से मौसम का मिजाज बदल गया है. मौसम विभाग ने पूर्वानुमान जताया है कि आज हल्की से मध्यम बारिश होने का अनुमान है. प्रदेश के पर्वतीय जिलों में आज बारिश हो सकती है. विभाग के अलर्ट के बाद राज्य के जंगलों में लगी आग के तांडव से कुछ राहत मिलने की उम्मीद दिखाई दे रही है.इसे देखते हुए मौसम विभाग ने यलो अलर्ट (Yellow Alert) जारी किया था. बुधवार को उत्तरकाशी, चमोली, बागेश्वर, नैनीताल, अल्मोड़ा और पिथौरागढ़ जनपदों में ओलावृष्टि का पूर्वानुमान जताया जा रहा है. उत्तरकाशी, चमोली और पिथौरागढ़ जनपदों में भारी बारिश और बर्फबारी की संभावना है. मौसम विभाग ने 8 अप्रैल तक उत्तराखंड में बारिश-ओलावृष्टि का अलर्ट जारी किया है.उत्तराखंड में जंगल इन दिनों धधक रहे हैं. पहाड़ों में आग का तांडव इस कदर है कि कई घर और मवेशी आग की चपेट में आ चुके हैं. ऐसे में मौसम विभाग का पूर्वानुमान सच साबित होता है तो आग पर काफी हद तक बारिश के बाद काबू पाया जा सकेगा.

वहीं राजस्थान के अधिकांश जिलों में तापमान 40 डिग्री से अधिक चल रहा है। मंगलवार को कई जिलों में लू के साथ अंधड़ भी आया। श्रीगंगानगर में 46 किलोमीटर, जैसलमेर में 28 किलोमीटर और बीकानेर में 25 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवा चली। श्रीगंगानगर जिले के बीरमाना व आसपास क्षेत्र में रात करीब 10 बजे बरसात के साथ एक मिनट तक ओले गिरे।
देश के अधिकतर हिस्सों में तापमान में बढ़ोत्तरी दर्ज की जा रही है. ज्यादातर जगहों पर तापमान सामान्य से अधिक दर्ज किया जा रहा है. मार्च महीने में टूटे गर्मी के रिकॉर्ड से ये बात कही जा रही है कि इस साल गर्मी अपने सारे रिकॉर्ड तोड़ सकती है.