दिल्ली में बेहद साफ हुआ हवा, ये है इसके पीछे की बड़ी वजह

देश में प्रदूषण का जब भी जिक्र होता है तो राजधानी दिल्ली का नाम जरूर आता है. क्योंकि दिल्ली की हवा में आमतौर पर प्रदूषक कणों की मात्रा मानकों से ज्यादा ही रहती है. लेकिन इस बार ऐसा नहीं है. जी हां लगातार हो रही झमाझम बारिश ने दिल्ली को बेहद साफ हवा का तोहफा दिया है. यही नहीं दिल्ली की हवा को साफ बनाने के पीछे सबसे बड़ा कारण लॉकडाउन भी रहा. इस बार दिल्ली में पहले तो लॉकडाउन और फिर अच्छे मानसून की वजह से हवा पहले की तुलना में लगातार साफ-सुथरी बनी हुई है.

Delhi pollution: Tired of the pollution in Delhi? Migrate to these ...

इस दौरान दिल्ली में आमतौर पर वायु गुणवत्ता सूचकांक संतोषजनक श्रेणी में ही रहा है. मगर, इसमें भी दो मौके ऐसे आए हैं जब हवा सबसे ज्यादा साफ-सुथरी रही है. पहला मौका लॉकडाउन-1 की घोषणा के बाद 28 मार्च के दिन था, जब वायु गुणवत्ता सूचकांक 45 अंक पर रहा था. जबकि दुसरा मौका 13 अगस्त के दिन रहा, जब वायु गुणवत्ता सूचकांक 50 अंक पर दर्ज किया गया था. दिल्ली में मार्च महीने के बाद ऐसे मौके कम ही आए हैं जब वायु गुणवत्ता सूचकांक 100 के अंक के ऊपर हो.

इस बार राजधानी दिल्ली के मौसम पर मानसून का असर अलग-अलग रहा है. जहां अगस्त महीने के पहले बारह दिन तक सामान्य से 72 फीसदी तक कम बरसात रिकॉर्ड की गई थी, वही इसके बाद अच्छी बारिश देखने को मिली है.

यहां आपकी जानकारी के लिए बता दे कि वायु गुणवत्ता सूचकांक यानी Air QUALITY INDEX में 0 से लेकर 50 तक के अंक को गुड या अच्छा श्रेणी में रखा जाता है. वही, 51 से लेकर 100 के बीच के अंक वालो को संतोषजनक श्रेणी में रखा जाता है.जबकि 101 से 200 तक मध्यम, 201 से 300 तक खराब, 301 से 400 तक को बेहद खराब और 401 से 500 तक के अंक को सूचकांक में गंभीर श्रेणी में रखा जाता है.

जहां पहले दिल्ली में Air QUALITY INDEX खराब और बेहद खराब श्रेणी में रहता था तो वही अब ये अच्छा और संतोषजनक श्रेणी में बना हुआ है, जो की दिल्लीवासियों के लिए कोई तोहफे से कम नहीं है….