Weathar Update: ला नीना बरपाएगा सर्द कहर, तमिलनाडु में बारिश को लेकर अलर्ट जारी

एक तरफ दिल्ली की हवा दिन पे दिन जहरीली होती जा रही हैं तो वही सुनने में ये भी आया की आने वाले दिनों में उत्तर भारत के मैदानी इलाकों के लिए नवंबर और दिसंबर का महीना परेशानी भरा होने की संभावना हैं. इस दौरान ला नीना जहां सर्द कहर बरपाएगा वहीं पराली के जलने से भी हवा में जहर घुलता नजर आएगा. अगर देखा जाये तो कुल मिलाकर प्रदूषण और ठंड दोनों से ही लोगों की परेशानी बढ़ने वाली हैं.

Coldest winters coming in January and February due to La Nina in North India, Know how to cope with It | हाड़ कंपा देने वाली ठंड में भी कारगर हैं ये उपाय,

मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक दिल्ली में अगले सप्ताह से सर्दी बढ़ने का अनुमान हैं. साथ ही राजधानी से जुड़े आसपास के क्षेत्रों में न्यूनतम तापमान में भी कमी देखने को मिलेगी. आज बुधवार को दिल्ली की हवा की गुणवत्ता बहुत ही खराब श्रेणी में पाई गई. सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च के अनुसार, आज दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक 382 दर्ज किया गया. साथ ही दिल्ली का मंगलवार को भी हवा का गुणवत्ता सूचकांक 372 था. आज दिल्ली का अधिकतम तापमान 29 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 13.4 डिग्री सेल्सियस रहने की सम्भावना हैं. उत्तर भारत के मैदानी इलाकों के लिए नवंबर और दिसंबर का महीना मुसीबतों से भरा हो सकता हैं क्योकि इस बार जहाँ ला नीना सर्द कहर बरपाएगा तो वही दूसरी तरफ पराली का धुआं हवा में जहर घोलता नज़र आएगा. कुल मिलाकर आपको बता दे की इस बार ठंड अधिक पड़ेगी और प्रदूषित हवा में सांस लेना भी आपके लिए कष्टकारी होगा.

Perth drenched in record-breaking rain as meteorologist predicts La Nina event | Sound Telegraph

वहीं बात अगर तमिलनाडु की करे तो तमिलनाडु के मध्य भाग और पुडुचेरी से लेकर निचले भाग तक आज बुधवार नवंबर को बहुत भारी बारिश के होने की संभवना जताई जा रही है. इस कारण इस क्षेत्र में रहने वाले लोगों का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो सकता हैं. मौसम विभाग के मुताबिक बारिश इतनी तेज होने की संभवना है की सड़क, जल और वायु तीनों ही तरह के यातायात के माध्यमों पर असर पड़ेगा. मौसम विभाग ने यह भी बताया कि अगले 48 घंटों में केरल में भी भारी बारिश देखने को मिल सकती है. इसके आलावा रायलसीमा, दक्षिणी आंतरिक कर्नाटक में बुधवार को बहुत ज्यादा बारिश होने का पूर्वानुमान है. वहीं, ओडिशा से उत्तर तटवर्ती आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़ के दक्षिणी हिस्से, तेलंगाना और और आंतरिक कर्नाटक पर भी घने बादल देखने को मिलेंगे, जिनसे बारिश की संभावना रहेगी.

 

STORY BY – UPASANA SINGH