बारिश की वजह से परेशान हुए किसान! जानिए मौसम विभाग की ताजा भविष्यवाणी

एक तरफ गर्मी तो दूसरी तारफ बारिश की वजह से मौसम में लगातार बदलाव देखने को मिल रहा है. मौसम विभाग की तरफ से अभी और बारिश का अनुमान लगाया जा रहा है. मौसम विभाग के मुताबिक, पहाड़ी राज्यों के ऊपर बने पश्चिमी विक्षोभ का असर कई राज्यों पर देखने को मिल सकता है. इसके चलते ही मौसम विभाग ने मैदानी इलाकों में बादल के गरजने के साथ बारिश की संभावना जताई है.

लेकिन इस बारिश से किसान परेशान हो रहे हैं. मार्च में राजस्थान के किसान जीरे की खेती बड़ी मात्रा में करते हैं. बिना मौसम बारिश और ओलावृष्टि ने किसानों की मेहनत बर्बाद कर दी. इस बारिश से जीरे की फसल को भारी मात्रा में नुकसान पहुंचा है. बिन मौसम बारिश ना सिर्फ राजस्थान बल्कि पूरे देश के किसानों पर असर डाल रही है. वहीँ मौसम विभाग के माने तो नए पश्चिमी विक्षोभ के चलते  राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर और उत्तरी-पश्चिमी हिमालयी क्षेत्रों के कई हिस्सों में हल्की बारिश हो सकती है. मौसम विभाग के मुताबिक पश्चिमी विक्षोभ उत्तर भारत के कई राज्यों में प्रभावी हो रहा है और इसके असर से 18 से 20 मार्च के दौरान गरज-चमक के साथ कहीं-कहीं हल्की बारिश की संभावना है.

स्काईमेट वेदर के अनुसार इस समय जम्मू कश्मीर के ऊपर पश्चिम विक्षोभ बना हुआ है. वहीं, पश्चिमी पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के ऊपर चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र है. दिल्ली में बादल के छाए रहने के भी आसार बन रहे हैं. राजधानी में अधिकतम तापमान 34 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 16 डिग्री सेल्सियस रह सकता है.
पश्चिम बंगाल, असम, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश, दिल्ली में बारिश तो गुजरात के सौराष्ट्र और कच्छ इलाकों में लू जैसे हालात की संभावाना जताई गई है.

बात अगर झारखण्ड की करें तो शुक्रवार को राजधानी रांची समेत आसपास के इलाके में मौसम सामान्य रूप से साफ है शाम तक इसमें बदलाव हो सकता है. वहीं 20 मार्च को पलामू, गढ़वा, चतरा,  लातेहार, कोडरमा, लोहरदगा, रांची, बोकारो, गुमला, हजारीबाग, खूंटी और रामगढ़ में मेघ गर्जन के साथ वज्रपात की संभावना है। इसे लेकर विभाग ने यलो अलर्ट जारी किया है। इस दौरान इन जिलों के अधिकतम और न्यूनतम तापमान में ज्यादा परिवर्तन की संभावना नहीं है।