Weather Update : राजधानी में बढ़ता प्रदूषण बना खतरें की घंटी, बंगाल की खाड़ी में बना डिप्रेशन

देश में लगातर मौसम में बदलाव देखने को मिल रहे हैं. कही बारिश हो रही हैं तो कही बर्फ़बारी की वजह से मैदानी इलाको में ठण्ड बढ रही हैं और अगर बात दिल्ली के करे तो यह पर तो प्रदुषण के खतरे की घंटी साफ दिखाई पड़ रही हैं तो चलिए जानते हैं  विस्जतार से मौसम का हाल .

तो क्या दिवाली की वजह से प्रदूषण नहीं बढ़ा है? कम से कम आंकड़ों का तो यही  कहना है - air pollution not increased because of Diwali? At least that's  what the

दिल्ली
राजधानी दिल्लीट का हवा गुणवत्ता सूचकांक बहुत ही ख़राब श्रेणी में दर्ज किया जा रहा हैं. लगातार दिल्ली में बढ़ता प्रदुषण खतरे की घंटी का संकेत हैं. आज यानि शुक्रवार को सुबह में मार्निंग वाक के लिए निकले लोगों को ठंड का एहसास हुआ और लोगों ने ठण्ड से बचने के लिए जैकेट पहन ली. मौसम विभाग का अनुमान हैं की आने वाले 24 घंटो में तापमान 11 डिग्री सेल्सियस तक हो सकता हैं. जिससे लोगों को ठण्ड के साथ साथ कंपकंपी भी महसूस होगी. आज दिल्ली का अधिकतम तापमान 24 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 12 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना हैं.

Jharkhand Weather Alert Chance of Rain in Jharkhand Today Ranchi Jamshedpur  Dhanbad Bokaro

झारखण्ड
आज शुक्रवार को झारखण्ड के कुछ इलाकों में सुबह से आसमान में आंशिक रूप से बादल दिखाई दे रहे हैं. जबकि शहर के कुछ इलाकों में हल्का कोहरा भी देखने को मिल रहा है. हो सकता हैं की मौसम आने वाले कुछ दिनों में तापमान में गिरावट आये. तो वहीं विभाग का पूर्वानुमान है कि अगले तीन दिनों तक झारखंड के विभिन्न जिलों में बारिश हो सकती हैं. आज झारखण्ड का अधिकतम तापमान 26° डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 19° डिग्री सेल्सियस रहने की सम्भावना हैं.

Cyclone Warning – Depression over Gangetic West Bengal intensifies into a  deep depression | ओडिशा और पश्चिम बंगाल में चक्रवाती तूफान की चेतावनी, तेज  हवा और बारिश से जनजीवन बेहाल ...

बंगाल की खाड़ी में बने डिप्रेशन और बारिश
मौसम विभाग ने जानकारी दी हैं की बंगाल की खाड़ी में बने डिप्रेशन का असर चेन्नई के मौसम पर पड़ने की सम्भावना हैं. जिसकी चपेट में तमिलनाडु के कुछ इलाके आने की सम्भावना हैं. इसके कारण यहां हल्की से भारी बारिश होने की सम्भावना है. तो वहीं दुश्री तरफ दक्षिणी अंडमान सागर व आस-पास 13 नवंबर तक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है. दूसरी तरफ चेन्नई में भारी बारिश के बाद से ही जगह-जगह पेड़ गिरने की घटनाएं भी सामने आई हैं. इसके लिए SDRF की टीमें रास्तों में गिरे हुए पेड़ों को हटाने में जुट गई हैं.

 STORY BY – UPASANA SINGH