Weather Update: अब बिहार-यूपी में यास मचा रहा तबाही, जानें आपके शहर में कैसा रहेगा मौसम

चक्रवाती तूफान यास का असर अभी भी कई राज्यों में देखने को मिल रहा है.ओडिशा, पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश में तेज बारिश हो रही है. घरों में पानी भर गया है. रास्ते बंद हो गए हैं तो वहीं बिहारउत्तर प्रदेश में अचानक ठंड बढ़ गयी है. तेज हवाओं के साथ धीमी बारिश से मौसम बदल गया है.आज का मौसम भी ठंडा है,कई क्षेत्रों में बारिश का अलर्ट जारी किया गया है. ओडिशा और बंगाल के बाद चक्रवाती तूफान यास बिहारयूपी में भी तबाही मचा रहा है.

weather news update cyclone yaas 2021 delhi ncr bihar up jharkhand bengal  mp chhattisgarh heavy rain mausam samachar weather monsoon alert live update  amh | Weather Forecast LIVE Updates : बिहार में

बिहार में तो यास के प्रभाव से हो रही तेज बारिश ने जनजीवन अस्तव्यस्त कर दिया है.कई इलाकों में तेज बारिश की वजह से जलभराव हो गया है. रिकॉर्ड तोड़ बारिश से पटना, गया, पूर्णिया सहित जगहजगह जलभराव की स्थिति हो गई है. आज भी यहां ऐसे ही मौसम बने रहने की संभावना है.जानकारी के मुताबिक यास तूफान की वजह से अब तक बिहार में 7 लोगों मौत हो गई है.बारिश का असर हवाई उड़ानों और रेलवे सफर पर भी पड़ रहा है.

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने कई राज्यों में येल्लो अलर्ट जारी किया है. बिहार, केरल और अंडमाननिकोबार में भारी बारिश होने की संभावना है. उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, झारखंड, छत्तीसगढ़ और राजस्थान समेत देश के कुछ इलाकों में तेज हवाएं चल सकती हैं.मौस विभाग के मुताबिक 30 मई को अंडमान निकोबार द्वीप समूह के कई हिस्सों में भारी बारिश हो सकती है. इसकी वजह से मछुआरों को अगली सूचना तक समुद्र में न जाने की सलाह दी गई है.अगर बात दिल्ली के मौसम की करें तो दिल्ली का मौसम साफ है और यहां कड़ी धूप निकली हुई है.जिससे गर्मी भी बढ़ गई है.

Yaas ने बिहार-बंगाल से UP तक को किया पानी पानी, जानें आगे कैसा रहेगा मौसम  का मिजाज़ |

भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक, भारत में मानसून की शुरुआत होने वाली है. एक के बाद एक आये दो चक्रवातों की वजह से मानसून पर भी इसका असर पड़ने की संभावना है. सबसे पहले मानसून की शुरुआत केरल से होती है. मौसम विभाग ने अनुमान लगाया है कि आगामी 31 मई तक मानसून केरल में दस्तक दे सकता है. मौसम विभाग के अनुसार दक्षिण पश्चिम मानसून सोमवार को केरल तट से टकरा सकता है. मौसम विभाग ने ये भी कहा है कि अगर ऐसा होता है तो इसका मतलब है कि मानसून निर्धारित समय से पहले आ गया. केरल में मानसून के पहुंचने की सामान्य तारीख एक जून है.