Weather Update: उत्‍तर पश्चिम इलाकों में अभी और करना होगा मॉनसून का इंतजार! ये है वजह

देश में उत्‍तर पश्चिमी इलाकों के लोगों को बारिश के लिए अभी और इंतजार करना पड़ सकता है. इन इलाकों में इस समय तेज गर्मी पड़ रही है. मौसम विभाग के मुताबिक, दिल्‍ली समेत उत्‍तर पश्चिमी भारत में 7 जुलाई से मानसून  के आगे बढ़ने की संभावना है. इसके बाद ही पूरे देश में मानसून की बारिश होगी.

दिल्ली में भीषण गर्मी, पारा 47 डिग्री के पार, राजस्थान का चूरू सबसे गर्म -  delhi north india highest temperature of the season recorded at safdarjung  and palam heat wave - AajTak

उत्तर प्रदेश के पूर्वी इलाकों में बारिश से मौसम सुहावना बना हुआ है. वहीं पश्चिमी यूपी में गर्मी ने लोगों का जीना बेहाल कर रखा है. भीषण गर्मी का प्रकोप केवल दिल्‍ली-एनसीआर तक सीमित नहीं है बल्कि पंजाब और हरियाणा, राजस्‍थान यहां तक कि जम्‍मू में भी तापमान बढ़ रहा है. मानसून का अभी भी दिल्‍ली, पंजाब, हरियाणा, उत्‍तर प्रदेश और राजस्‍थान के ज्यादातर हिस्‍सों में पहुंचना बाकी है. दिल्ली और आसपास के इलाकों को अभी मॉनसून के लिए लंबा इंतजार करना होगा और फिलहाल गर्मी से कोई राहत नहीं मिलने वाली है.

बिहार, सिक्किम और मेघालय में भारी से भी बहुत भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है. मौसम विभाग के अनुसार, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, पूर्वी उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और तेलंगाना में बारिश का पूर्वानुमान जताया गया है.

UP Weather Forecast Of Rain And Thunderstorm Alert - आंधी-तूफान से अब तक 9  की मौत, अगले तीन घंटे पड़ सकते हैं भारी | Patrika News

बिहार, पश्चिम बंगाल, सिक्किम में अगले 6 से 7 दिनों तक भारी बारिश की संभावना है. जबकि अरुणाचल प्रदेश, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और‍ त्रिपुरा में अगले 3 दिन बारिश होगी. वहीं पूर्वी उत्‍तर प्रदेश में 4 जुलाई तक बारिश होने का अनुमान है. पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश में 2 जुलाई को बारिश होगी.

उत्‍तराखंड में 1 से 4 जुलाई तक भारी बारिश की संभावना जताई गई है. मौसम विभाग के अनुसार अगले 48 घंटे में राजधानी देहरादून के अलावा पौड़ी और नैनीताल में कहीं-कहीं भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना बन रही है. टिहरी, चंपावत और पिथौरागढ़ में भी भारी बारिश के आसार है. इसके मद्देनजर मौसम विभाग ने शुक्रवार के लिए रेड अलर्ट जारी किया है.

मौसम विभाग ने जानकारी दी है कि पछुआ हवाओं के कारण मानसून धीमा पड़ गया है. ये हवाएं पूर्वी हवाओं को आगे नहीं बढ़ने दे रही हैं. 30 जून तक देश में 10 फीसदी अधिक बारिश दर्ज की गई है. इसमें उत्‍तर पश्चिमी भारत में 14 फीसदी, मध्‍य भारत में 17 फीसदी, दक्षिणी प्रायद्वीप में 4 फीसदी और पूर्व व उत्‍तर पूर्वी भारत में 3 फीसदी अधिक बारिश हुई है.