क्या है Heat Dome? जिससे कनाडा में 500 तो अमेरिका में मरे 140 लोग,एक अरब जानवरों के मरने की भी खबर

कनाडा में लगभग एक अरब जानवर मौत के कगार पर खड़े हैं…500 से अधिक इंसानों की भी मौत हो चुकी हैं और कितने मरने वाले हैं इसका कोई अंदाजा नही है..अमेरिका में भी तबाही मची हुई है और इस तबाही के पीछे वजह हीट डोम हैं . आखिरकार हीट डोम क्या है, जिसने अमेरिका और कनाडा जैसे देशों में तबाही मचाई हुई है. इसके बारे में हम आगे बतायेंगे लेकिन उससे पहले कनाडा और अमेरिका में मची तबाही पर बात कर लेते हैं.

Trapped by 'heat dome', US, Canada bakes under record-smashing hot weather | India News - Times of India

दरअसल दुनिया के कई देश इस वक्त गर्मी से बेहाल हैं. लेकिन कनाडा और उत्तर-पश्चिम अमेरिका में तो गर्मी से हर जगह हाल बेहाल हो चुका है..दुनिया के ठंडे देशों में गिना जाने वाला कनाडा इस समय भयानक गर्मी से तप रहा है, यहां  हर साल 16.4 डिग्री सेल्सियस ही औसत तापमान दर्ज किया जाता है. जहां कभी भी तापमान 45 डिग्री सेल्सियस के पार नहीं गया, वहां इस बार तापमान 50 डिग्री के करीब तक पहुंच गया है. कनाडा में अब तक का सबसे अधिक तापमान रिकॉर्ड किया गया है और इसी वजह से अकेले कनाडा में 500 से अधिक  लोगों की मौत हो चुकी है. वही अमेरिका में लगभग 140 लोगों की मौत हुई है.

Heat dome causing heat wave in Pacific Northwest

विशेषज्ञ अब इस बात का पता लगाने में जुट गए हैं कि आखिर ऐसा क्या हुआ जो अचानक स्थितियां ऐसे बदल गयी और जानलेवा बन गयी हैं. फिलहाल वैज्ञानिकों ने इस स्थिति के लिए ‘हीट डोम’ को जिम्मेदार माना है. हीट वेव के बारें में तो आपने सुना होगा लेकिन हीट डोम क्या होता है ये आप शायद नहीं जानते होंगे…हीट डोम जलवायु की वो स्थिति है जो असाधारण मानी जाती है और इसकी वजह से तापमान में तेजी से इजाफा होता है. यह असाधारण स्थिति उस समय होती है जब महासागरों के तापमान में बदलाव होता है.

अमेरिका के National Oceanic and Atmospheric Administration of the Department of Commerce (NOAA) के मुताबिक हीट डोम तब बनता है, जब वायुमंडल गर्म समुद्री हवा को ढक्कन या टोपी की तरह ढंक लेता है. NOAA के मुताबिक यह घटना तब होती है, जब समुद्र के तापमान में बहुत ज्यादा बदलाव आता है. इसकी वजह से समुद्र की गर्म सतह ज्यादा गर्म हवाओं को ऊपर उठने पर मजबूर करती हैं. फिलहाल अमेरिका और कनाडा में पैदा हुई स्थिति को लेकर एक्सपर्ट आर्कटिक के ऊपर बने उच्च दबाव की वजह से बना वायुमंडलीय विक्षोभ को वजह बता रहे हैं, जिसके चलते तापमान ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं।

Heat dome' probably killed 1bn marine animals on Canada coast, experts say | Canada | The Guardian

अब जब तापमान दोगुने से भी पार चला गया है..इंसान तक नही बच पा रहे हैं तो जीव जंतुओं पर भी ख़तरा बढ़ गया है. हाल ही में सामने आई एक रिपोर्ट के मुताबिक, भीषण गर्मी के चलते कनाडा में सौ करोड़ (1 अरब) से भी अधिक समुद्री जीवों की मरने की आशंका है. ब्रिटिश कोलंबिया यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञों की टीम ने इस बात का दावा किया है.

Chris Harley | Biodiversity Research Centre

टीम के सदस्य समुद्री जीवविज्ञानी क्रिस्टोफर हार्ले ने कहा, ‘हम ‘हीट डोम’ के कारण समुद्री जीवों के नुकसान का आकलन कर रहे हैं. कनाडा में समुद्र तट का दायरा 100 किमी से ज्यादा का है. अत्यधिक तापमान से पारिस्थितिक तंत्र बुरी तरह प्रभावित हुआ है. दरअसल, पिछले हफ्ते पश्चिमी कनाडा और उत्तर-पश्चिमी अमेरिका में ‘हीट डोम’ ने तबाही मचाई थी. इससे इन क्षेत्रों में तापमान रिकॉर्ड 49 डिग्री के ऊपर चला गया था. जबकि जून-जुलाई में यहां तापमान 17 डिग्री से नीचे ही होता है.

Like in 'postapocalyptic movies': Heat wave killed marine wildlife en masse

क्रिस्टोफर हार्ले ने कहा कि अब तक कई मसल्स (समुद्री जीव) भीषण गर्मी की वजह से दम तोड़ चुके हैं. क्रिस्टोफर हार्ले और उनकी प्रयोगशाला के सदस्यों का मानना है कि रिकॉर्ड तोड़ तापमान से मसल्स, स्टारफिश और अन्य जीवों पर विनाशकारी प्रभाव पड़ा है. भीषण गर्मी की वजह से मर चुके मसल्स कई तट पर पड़े हैं. घोंघे और क्लैम पानी में सड़ रहे है. इसके कारण पानी की क्वॉलिटी पर भी असर पड़ेगा क्योंकि मसल्स और क्लैम पानी को फिल्टर करने में मदद करते हैं. क्रिस्टोफर हार्ले के मुताबिक, अमेरिका के जॉर्जिया और वाशिंगटन की तटों पर भी ऐसा ही देखने को मिला है, वहां बड़े पैमाने पर शेलफिश की मौत के संकेत मिले हैं.

Like in 'Postapocalyptic Movies': Heat Wave Killed Marine Wildlife en Masse  - News Letterze

ऐसे में चिंता की बात ये है कि इतनी बड़ी तादाद में समुद्री जीवों के मरने से जहां पानी दूषित होगा वही उनकी प्रजाति भी खतरे में आ जाएंगी. क्योंकि स्टारफिश और क्लैम्स जैसे जीवों में प्रजनन धीमी गति से होता है. ऐसे में उनकी आबादी को फिर से पनपने में लंबा वक्त लग सकता है. साथ ही आने वाले दिनों में उनके अवशेषों की गंध समुद्र तट पर जाने वाले लोगों को भी परेशान कर सकती है.——————