किस धातु पर कोरोना वायरस अधिक समय तक एक्टिव रहता है? यहाँ जानिये

कोरोना वायरस अब भारत में दहशत का दूसरा नाम बनता जा रहा है. लोगों को बार बार हाथ धोने की सलाह दी जा रही है. इन सबके बावजूद इस वक्त ये सवाल भी उठ रहा है कि कोरोना वायरस किस जगह पर कितने दिन तक एक्टिव रहता है. दरअसल मिली जानकारी के मुताबिक़ कोरोना वायरस तापमान के अनुसार अधिक या कम देर तक एक्टिव रहता है. आइए अब आपको बताते हैं कि यदि किसी जगह का तापमान 20 डिग्री सेल्सियस है तो कोरोना वायरस अलग-अलग सरफेस पर कितनी देर टिकेगा. स्टील की परत पर कोरना वायरस दो दिनों तक टिका रहता है. ट्रेन बस और मेट्रो में बड़ी मात्रा में स्टील की परत होती है इसीलिए हमें ऐसी जगहों से यात्रा करने के बाद हाथ को बार बार धोने की चेतावनी दी जा रही है.

वहीँ शीशे या लकड़ी के सरफेस पर कोरोना वायरस चार दिनों तक एक्टिव रह सकता है. ऐसे में आपके ये बेहद खतरनाक साबित हो सकता है. आपको कांच और लड़की से बने सार्वजानिक वस्तुओं को छूने से बचाना चाहिए.. क्योंकि इनमे कोरोना वायरस चार दिन तक एक्टिव रहता है.

ठोस धातु प्लास्टिक या मिट्टी के बर्तनों के सरफेस पर कोरोना वायरस तकरीबन 5 दिनों तक जिंदा रह सकता है. वहीँ इस SARS फैमिली के वायरस एल्यूमीनियम पर 2 से 8 घंटे तक अपना असर बरकरार रखते हैं. इसी के साथ रबड़ या रबड़ से बनी किसी चीज पर ये वायरस कम से कम 8 घंटे तक जिंदा रहते हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस की चपेट में आने वाले व्यक्ति की 37 दिनों के भीतर मौत होने की संभावना रहती है. हल्के जुकाम और गले में सूजन से शुरू होने वाला यह वायरस बड़ी तेजी से इंसान के फेफड़ों को खराब कर उसे मौत की तरफ ले जा सकता है. वहीँ इससे बचने के लिए मरीज को कम से कम 14 दिन तक आइसोलेशन में रखने की जरूरत होती है.

ऐसे में आप भी अपना धयान रखिये.. सावधान रहिये और कोरोना से बचकर रहिये.