कोरोना वायरस के तीसरे लहर में सबसे ज्यादा बच्चे होंगे प्रभावित? हो जाएँ सावधान

कोरोना वायरस की पहली लहर में बुजुर्ग या उन लोगों को ज्यादा खतरा था जो पहले से किसी बेमारी से ग्रसित थे.इसके बाद दूसरी लहर में युवाओं को कोरोना वायरस ने अपनी चपेट में लिया लेकिन कोरोना की तीसरी लहर में क्या होगा..?

जब भारत में कोरोना की पहले वेव खत्म भी नही हुई थी तब कई देश कोरोना वायरस के दूसरी और तीसरी लहर का सामना कर रहे थे. लेकिन हमने उसे अनदेखा किया, लापरवाही की और कोरोना की दूसरी लहर पहले से बेहद ज्यादा खतरनाक होकर सामने आई और अब तीसरी लहर की आशंका जताई गयी है और ये भी कहा जा रहा है कि तीसरी लहर आएगी और जरूर आएगी.. ऐसे में ये सवाल उठता है कि तीसरी लहर सबसे ज्यादा किसे प्रभावित कर सकती है.. इस बारे में दिल्ली एम्स (AIIMS Delhi) के डॉ नीरज निश्छल ने आकाशवाणी को दिए एक साक्षात्कार में बताया है कि तीसरी लहर बच्चों के लिए कितनी खतरनाक हो सकती है और कैसे ध्यान रखा जाए.

ऐसा कहा जा रहा है कि दूसरी लहर के दौरान देश अधिकतर बुजुर्ग अभी घर के अंदर है और वैक्सीन उन्हें लग चुकी है, इसलिए वह ग्रुप कंट्रोल में है. जबकि युवाओं को ज्यादा बाहर जाना होता है और उन्हें अभी तक सिंगल डोज भी पूरी तरह से नहीं लगी है इसलिए कोरोना की दूसरी लहर में सबसे ज्यादा प्रभावित युवा हो रहे हैं. लेकिन अब जो ग्रुप बचेगा, वह 18 साल से कम वाले होंगे. इसलिए आशंका जताई जा रही है कि उन पर वायरस का प्रभाव ज्यादा पड़ सकता है.इसीलिए अब बच्चों पर हमें ध्यान देना होगा..बच्चों को प्रोटीन, कैल्शियम और मिनरल्स वाले हेल्दी खाना खिलाएं. उन चीजों को आहार में शामिल करें, जिसमें ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं. परिवार में बच्चों को भी अपने साथ व्यस्त रखें उन्हें बाहर जाने से रोकना होगा.