बाइक पर सवार व्यक्ति को बाइक समेत क्यों हवा में उठा ली ट्रैफिक पुलिस? सामने आई पीछे की कहानी

महाराष्ट्र से आई इस तस्वीर को जिसने भी देखा वो बस देखता ही रह गया कि आखिर ये हो क्या रहा है. ये कौन सी बला है?दरअसल ये पूरा मामला महाराष्ट्र के पुणे का है.. जहाँ नो पार्किंग में खड़ी एक बाइक को उठाने के लिए ट्रैफिक पुलिस की गाड़ी पहुँचती है और ट्रैफिक पुलिसकर्मी क्रेन के जरिए बाइक समेत उस पर सवार व्यक्ति को भी उठाकर लेकर चले जाते हैं.

इसके कुछ वक्त बाद ये तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल होने लगी.. तस्वीर वायरल होने के बाद पुणे पुलिस हरकत में आई. ट्रैफिक डिपार्टमेंट का कहना है कि बाइक नो-पार्किंग जोन में खड़ी थी. जब बाइक को उठाया जा रहा था तब जबरदस्ती बाइक सवार जान बूझकर बाइक पर बैठ गया.

जबकि स्थानीय लोगों का कहना है कि बाइक सवार शख्स बार-बार बोल रहा था कि सर मेरी बाइक नो-पार्किंग जोन में नहीं खड़ी थी. मैं दो मिनट के लिए सड़क किनारे खड़ा हुआ था. मैंने अपनी बाइक पार्क नहीं की है. मैं यहां से निकल रहा हूं. प्लीज मेरे खिलाफ कोई एक्शन न लें. इसके बावजूद भी ट्रैफिक पुलिसकर्मियों ने शख्स की एक न सुनी और बाइक को सवार समेत क्रेन से उठा लिया.

ट्रैफिक डिपार्टमेंट के बड़े अधिकारियों का कहना है कि, ‘नाना पेठ इलाके में हुई इस घटना की डिटेल रिपोर्ट हमने तलब की है.’ पुलिस का कहना है कि बाइक सवार अपनी बाइक के पास नही था जब पुलिस कर्मी चालान करने पहुंचे तो बाइक सवार उमेश वाडेकर वहां पहुँच जाता है.. बाइक उठाने से पहले ही वो बाइक पर बैठ गया.. ट्रैफिक पुलिस ने बाइक उठा ली जिसकी वजह से बाइक सवार बाइक समेत हवा में लटक गया”  लापरवाही बरतने के आरोप में ट्रैफिक पुलिस के जवान को भी ट्रैफिक पुलिस मुख्यालय भेज दिया है. पूरे मामले की जाँच की जा रही है.

हालाँकि इस तस्वीर ने कही ना कहीं लोगों को हैरान कर दिया है की अगर बाइक स्वर व्यक्ति नीचे गिर जाता और उसे गंभीर चोट लग जाती तो इसका जिम्मेदार कौन होता.. पुलिस के मुताबित साल 2020 में 80 करोड़ रुपये का चालान काटे. लेकिन इसमें से सिर्फ 23% ही रकम वसूल हो पाई है. वहीँ इस साल पुणे में तकरीबन 45 करोड़ रुपये के चलान काटे गए हैं.

स्थानीय लोगों का कहना है कि यहाँ ट्रैफिक पुलिस बेवजह लोगों को परेशान कर रही है.